नेशनल

चीन के राष्ट्रपति जिनपिंग ने मिले NSA डोभाल, क्या तनाव होगा कम?

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
249
| जुलाई 28 , 2017 , 17:29 IST | बीजिंग

भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ब्रिक्स के शीर्ष सुरक्षा अधिकारियों के साथ गुरुवार से शुरू हुई बैठक में भाग लेने के लिए चीन में हैं। अपने चीन दौरे पर अजीत डोभाल ने चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग से मुलाकात की।

अजीत डोभाल ने कहा कि सभी ब्रिक्स देशों को आतंकवाद के खिलाफ एकजुट होना चाहिए। इस बीच चीन ने एक बार फिर डोकलाम और जम्मू-कश्मीर का मुद्दा उठाया है। चीन ने कहा कि,

डोकलाम मसला चीन-भूटान बॉर्डर विवाद है। इसमें थर्ड पार्टी के तौर पर भारत को दखल देने का क्या हक है? नई दिल्ली के तर्क के मुताबिक अगर उसे ये हक है तो ये बहुत खतरनाक होगा क्योंकि अगर कश्मीर मसले पर पाकिस्तान ने अपील की तो चीन की आर्मी वहां विवादित एरिया में घुस सकती है, जिसमें भारत के अधिकार वाला कश्मीर भी शामिल है।

Feature

उधर, डोभाल ने सुरक्षा मुद्दों पर उच्च प्रतिनिधियों की 7वीं ब्रिक्स बैठक में कहा,

यह अच्छी बात है कि हम उन महत्वपूर्ण मुद्दों पर चर्चा कर रहे हैं, जिनका असर अगले शिखर सम्मेलन पर पड़ेगा।


उन्होंने कहा,

आज की बैठक के परिणाम सितंबर में जियामेन में होने वाली ब्रिक्स शिखर बैठकों में योगदान करेंगे।


तीन दिवसीय ब्रिक्स शिखर सम्मेलन जियामेन में तीन सितंबर को आयोजित होगी। डोकलाम में भारत तथा चीन के बीच गतिरोध से पांच देशों के शिखर सम्मेलन में द्विपक्षीय तनाव की चिंता बढ़ गई है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग की ब्रिक्स शिखर सम्मेलन में मुलाकात की संभावना है। डोभाल ने गुरुवार को चीन के शीर्ष राजनयिक यांग जीची से मुलाकात कर दोनों देशों के बीच की 'प्रमुख समस्याओं' पर चर्चा की। 

Glasshouse-oct13-4_650_100314023034

डोभाल ने कहा,

ब्रिक्स को आतंकवाद के साथ ही क्षेत्रीय और वैश्विक महत्व के रणनीतिक मुद्दों का मुकाबला करने में नेतृत्व दिखाने की जरूरत है।


उन्होंने कहा,

यह स्वाभाविक है कि हम सुरक्षा मुद्दों पर चर्चा करने के लिए एक ब्रिक्स मंच आयोजित करें, जिसका वैश्विक शांति और स्थिरता में प्रभाव पड़ता हो।


गौरतलब है कि भारतीय सेना ने जून में चीनी सैनिकों द्वारा इस इलाके में सड़क निर्माण पर रोक लगा दी थी, जिसके कारण दोनों देशों के सैनिकों के बीच ठन गई थी। डोकलाम में दोनों देशों के सैनिकों के बीच गतिरोध का यह दूसरा महीना है।


कमेंट करें