मनोरंजन

पद्मावत: राजपूत महिलाओं ने दी जौहर की धमकी, 17 जनवरी को होगा विरोध प्रदर्शन

श्वेता बाजपेई, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
69
| जनवरी 14 , 2018 , 12:23 IST | नई दिल्ली

फिल्‍ममेकर संजय लीला भंसाली की फिल्म 'पद्मावत' की मुश्किले कम होने का नाम ही नहीं ले रही हैं। जी हां, फिल्म को लेकर अब क्षत्रिय समाज की महिलाएं सामने आई हैं और उन्होंने जौहर करने की चेतावनी दी है। इन महिलाओं ने चित्तौड़गढ़ किले के उसी स्थान पर जौहर की चेतावनी दी है, जहां रानी पद्मनी ने 16 हजार रानियों और दासियों के साथ जौहर किया था।

शनिवार को चित्तौड़गढ़ में सर्व समाज की बैठक में क्षेत्रीय समाज की महिलाएं काफी संख्या में शामिल हुर्इं। सूत्रों के मुताबिक जौहर स्मृति संस्थान के जनरल सेक्रेटरी कण सिंह ने कहा कि मूवी की रिलीज पर रोक नहीं लगी तो इससे जुड़े सभी लोगों को फांसी पर चढ़ा देंगे।

ये भी पढ़ें-सेंसर बोर्ड अध्यक्ष प्रसून जोशी का खंडन- 'पद्मावत' में 300 कट की बातें गलत

इस बैठक में महिलाओं ने साफ कहा कि यदि देश में कहीं भी 'पद्मावत' रिलीज हुई, तो महिलाएं जौहर करेंगी। बैठक में राजपूत समाज की महिलाओं के साथ ही अन्य समाजों की महिलाएं भी काफी बड़ी संख्या में शामिल हुई।

बैठक में तय किया गया कि 17 जनवरी से राजमार्ग जाम करने के साथ ही रेल यातायात भी अवरूद्ध किया जाएगा। सर्व समाज का एक प्रतिनिधमंडल रविवार को दिल्ली जाकर केन्द्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह से मुलाकात करेगा। राजनाथ सिंह से देशभर में फिल्म के प्रदर्शन पर रोक की मांग की जाएगी।

करणी सेना के प्रवक्ता वीरेंद्र सिंह ने बताया कि बोर्ड का अध्यक्ष 16 जनवरी को पीएम मोदी से मिलेगा। हम उनसे भी फिल्म पर रोक लगाने की मांग करेंगे। इन सभी विरोधों के बावजूद फिल्म की रिलीज पर रोक नहीं लगेगी तो महिलाएं उसी जगह जौहर करेंगी, जहां रानी पद्मिनी ने किया था।

इसके साथ ही सब कोशिशों के बावजूद भी अगर फिल्म रिलीज होती है तो, वीरेंद्र सिंह का दावा है कि 24 जनवरी को क्षत्रिय समाज की महिलाएं जौहर करेंगी। दिलचस्प बात है कि इस दिन रानी पद्मावती ने भी जौहर किया था, इसीलिए समाज की औरतें भी वहीं जाकर जौहर कर लेंगी। इस बारे में चित्तौड़गढ़ जौहर स्मृति संस्थान के महासचिव भंवर सिंह के मुताबिक, एक बार फिर ऐतिहासिक चित्तौड़गढ़ किले के दरवाजे बंद किए जाने की तैयारी भी चल रही है। हालांकि करणी सेना द्वारा पहले 25-26 जनवरी को विरोध प्रदर्शन की योजना थी, मगर गणतंत्र दिवस को देखते हुए, इसे 17 जनवरी के दिन के लिए तबदील कर लिया गया।


कमेंट करें