राजनीति

संसद का मानसून सत्र 17 जुलाई से, किसान आंदोलन पर विपक्ष होगा हमलावर

राघवेन्द्र द्विवेदी, संवाददाता, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
71
| जून 24 , 2017 , 17:39 IST | नई दिल्ली

संसद का मानसून सत्र 17 जुलाई से शुरू होगा और 11 अगस्त तक चलेगा। केन्द्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह की अध्यक्षता में हुई CCPA (कैबिनेट कमिटी ऑन पॉलिटिकल अफेयर्स) की बैठक में ये फ़ैसला लिया गया। संसदीय कामकाज के लिहाज से मानसून सत्र काफी महत्वपूर्ण है लेकिन शीतकालीन सत्र की तरह मानसून सत्र भी हंगामेदार हो सकता है।

राष्ट्रपति चुनाव में विपक्ष होगा एकजुट

राष्ट्रपति चुनाव में दिख रही 17 विपक्षी पार्टियों की एकजुटता संसद सत्र में भी दिख सकती है। इसके अलावा 1 जुलाई से देश भर में जीएसटी लागू होने जा रहा है जबकि कई दल इस फ़ैसले के ख़िलाफ़ हैं। ऐसे में जीएसटी पर विपक्ष सरकार को संसद में घेरने की कोशिश कर सकता है।

Parliament

किसान आंदोलन को ले विपक्ष सरकार पर हो सकता हमलावर

इतना ही नहीं, विपक्ष के तरकश में कई और तीर हैं जिनके सहारे सरकार पर हमला बोला जाएगा। किसान आंदोलन के मुद्दे पर भी विपक्ष हमलावर हो सकता है। हालांकि हमेशा की तरह सत्र से पहले सरकार और स्पीकर की तरफ से सर्वदलीय बैठक बुला कर सदन चलाने के लिए सहमति बनाने की कोशिश की जाएगी लेकिन ऐसी बैठकों का असर कुछ ख़ास नहीं होता।

Opposition

कई बार देखा गया है कि बैठक में विपक्ष का रवैया कुछ और रहता है लेकिन संसद सत्र शुरू होने के बाद सदन में तेवर कुछ और दिखते हैं। बारिश के दिनों में बाहर का मौसम भले ही ठंडक देने वाला रहे लेकिन संसद के भीतर का सियासी पारा गर्म रहने की संभावना ज़्यादा है।

 


कमेंट करें