इंटरनेशनल

पेंटागन ने डोकलाम विवाद पर की अपील, भारत-चीन सीधे करें बातचीत

अनुराग गुप्ता, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
163
| जुलाई 22 , 2017 , 14:53 IST | नई दिल्ली

भारत चीन के बीच जारी तनाव दिन-ब-दिन गहराता जा रहा है। इसी बीच भारत-चीन सीमा विवाद मसले पर अमेरिका का नया नजरिया सामने आया है। इस मसले पर पेंटागन ने कहा कि दोनों देश सीधे इस पर बात करें और इसमें किसी तरह की जोर-जबरदस्ती न हो। अमेरिकी रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता गैरी रोस ने कहा कि, हम भारत एवं चीन को तनाव कम करने की खातिर सीधे वार्ता करने के लिए प्रोत्साहित करते हैं जिसमें किसी प्रकार की जोर जबरदस्ती नहीं हो। हालांकि पेंटागन भारत और चीन किसी का भी पक्ष लेने से इनकार कर रहा है।

Indian-soldiers-china-border_650x400_81498504474

इतना ही नहीं पेंटागन ने इस मसले पर अटकलें लगाने से मना कर दिया और कहा कि वो दोनों देशों को आपस में वार्ता करने के लिए प्रोत्साहित करते है। अमेरिकी विदेश मंत्रालय ने भी पिछले हफ्ते इसी तरह के बयान दिए थे। दरअसल, 36 दिन से भारत और चीन के सैनिक डोकलाम में आमने-सामने हैं। यह वह इलाका जहां पर तीन देशों की सीमाएं आपस में मिलती है यानी की ट्राई जंक्शन है। चीन इस इलाके पर सड़क बनाना चाहता है, मगर भारत और भूटान लगातार इसका विरोध कर रहे हैं।

वहीं भारत-चीन सीमा गतिरोध को यथास्थिति बदलने के लिए चीन की बल प्रयोग करने की रणनीति के तौर पर देखा जा रहा है। ऐसे में भारत ने चीन के खिलाफ कड़ा रुख अपनाया है। बता दें कि इस महीने के अंत में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ब्रिक्स की बैठक में भाग लेने के लिए बीजिंग जाएंगे। इस मौके पर डोभाल संभवत: इस मसले पर बातचीत करेंगे।

India-china-reuters-1

गौरतलब है कि भारतीय रक्षा मंत्रालय की तरफ से कहा गया था कि जब तक चीन के सैनिक सड़क निमार्ण से पीछे नहीं हटते है, तब तक भारतीय सैनिक नॉन काम्बैट मोड में डोकलाम में डटे रहेंगे। वहीं दूसरी तरफ चीनी मीडिया ने कहा था कि भारत के साथ बातचीत की पूर्व शर्त है कि भारतीय सैनिक विवादित हिस्से यानी कि डोकलाम से पीछे हटें।


कमेंट करें