अभी-अभी

डीलरों की चेतावनी- मांगे नहीं माने जाने पर हर रविवार को पेट्रोल पंप रहेंगे बंद

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
103
| अप्रैल 11 , 2017 , 19:27 IST | नयी दिल्ली

देशभर के पेट्रोल पंप मालिकों ने चेतावनी दी है कि यदि उनका मार्जिन बढ़ाए जाने की मांग को नहीं माना गया, तो वे हर रविवार को पंप बंद रखेंगे। यही नहीं, जब तक सरकार इस मामले में दखल नहीं देती है, सप्ताह के शेष दिनों में भी पेट्रोल पंप सुबह 9 बजे से शाम 6 बजे तक ही काम करेंगे, ताकि वे लोग अपने खर्चों में कमी ला सकें।

Petrol-wefornews

कन्सॉर्टियम ऑफ इंडियन पेट्रोलियम डीलर्स के महासचिव रवि शिंदे ने बताया कि पेट्रोल पंप मालिकों ने तय किया है कि 14 मई से प्रत्येक रविवार को पंप बंद रखे जाएंगे, तथा 15 मई से डीलर सुबह 9 बजे से शाम 6 बजे तक ही काम करेंगे।


बता दें कि यह कन्सॉर्टियम देशव्यापी संगठन है, और लगभग 50,000 पेट्रोल पंप डीलरों का प्रतिनिधित्व करता है।

रवि शिंदे ने यह भी जानकारी दी कि इन फैसलों के अलावा पेट्रोल डीलर्स एसोसिएशन 10 मई को 'नो परचेज़ डे' (कोई खरीद नहीं दिवस) के रूप में मनाएगी, ताकि मांगों पर ज़ोर दिया जा सके।
उन्होंने कहा कि,

इससे जनता को ज़्यादा परेशानी पैदा नहीं होगी, लेकिन यह तेल कंपनियों के लिए संकेत होगा कि डीलर अब लड़ाई के लिए तैयार हैं।

पंप मालिकों की मांगों के बारे में बात करते हुए रवि शिंदे ने बताया कि तेल मार्केटिंग कंपनियों ने लिखित में दिया हुआ अपना वादा पूरा नहीं किया, जिसमें उन्होंने अपूर्व चंद्र कमेटी की रिपोर्ट के मुताबिक डीलरों को मार्जिन देना था।

Petrol-2-550x361

डीलरों की क्या है मांग

रवि शिंदे ने कहा कि डीलर मार्जिन की बात की जाए तो अपूर्व चंद्र कमेटी के आकलन के अनुसार डीलरों को पेट्रोल पर 3,333 रुपये प्रति किलोलीटर (1,000 लीटर) मिलने चाहिए, और डीज़ल पर 2,126 रुपये प्रति किलोलीटर. उन्होंने कहा, कि जबकि इस समय हमें पेट्रोल तथा डीज़ल पर क्रमशः 2,570 रुपये तथा 1,620 रुपये मिल रहे हैं।

क्रेडिट-डेबिट कार्ड भुगतान लेने से किया है इनकार

पेट्रोल पंप मालिकों ने जनवरी में डिजिटल भुगतानों पर लगने वाले कर के विरोध में क्रेडिट तथा डेबिट कार्ड के ज़रिये भुगतान लेने से मना करने की चेतावनी दी थी, और उस समय सरकार को दखल देना पड़ा था।

बता दें कि देश में डीज़ल की मांग कम हुई है, इसलिए 31 मार्च, 2017 को समाप्त हुए पिछले वित्तवर्ष के दौरान भारत में ईंधन की खपत पांच फीसदी की धीमी गति से बढ़ी।