नेशनल

आखिर कौन है शल्य? क्यों PM मोदी ने किया उनका जिक्र

अनुराग गुप्ता, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
241
| अक्टूबर 5 , 2017 , 21:22 IST | नई दिल्ली

पीएम मोदी ने डगमगाती हुई अर्थव्यवस्था पर आलोचकों को करारा जवाब देते हुए अपनी सरकार के तीन साल का रिपोर्ड कार्ड पेश किया। इसी के साथ उन्होंने बार-बार महाभारत के शल्य का जिक्र किया। दरअसल, मोदी ने शल्य का जिक्र करते हुए अपनी पार्टी के नेताओं की तरफ इशारा किया।

उन्होंने कहा कि विभिन्न मुद्दों पर सरकार की नीतियों की अपने काल्पनिक असफसला पर आलोचना कर देश में निराशा का माहौल पैदा कर रहे हैं। ये लोग शल्पवृत्ति से पीड़ित हैं। इन लोगों को अच्छी नींद तभी आती है जब आस-पास निराशा फैलाते है। हमें ऐसे लोगों की पहचान करने की जरूरत है।

Karn

शल्य कौन थे:

महाभारत के शल्य माद्री के भाई और नकुल-सहदेव के मामा थे। उन्हें एक बेदतरीन गदाधारी के रूप में जाना जाता था। जब धर्म स्थापना के लिए सबसे बड़ा युद्ध होने वाला था तो शल्य पांडवों की तरफ से लड़ने के लिए चल पड़े पर रास्ते में ही दुर्योधन ने छल का प्रयोग कर उन्हें अपनी तरफ से युद्ध करने के लिए शामिल कर लिया था।

जब नकुल-सहदेव को पता चला कि उनके मामा शल्य दुर्योधन की ओर शामिल हो गए है, तो वो काफी नाराज हुए थे। इतना ही नहीं धर्मस्थापना के लिए होने वाले युद्ध यानी की महाभारत के पहले शल्य ने युधिष्ठिर को विजयी होने का आशीर्वाद भी दिया था और यह वचन भी दिया था कि वो कर्ण के सारथी के रूप में कर्ण को हतोत्साहित करेंगे ताकि वह अपनी क्षमता का प्रदर्शन ना कर पाए।

Shalya_beco

शल्य को लेकर एक दिलचस्प बात यह भी है कि उन्होंने कर्ण का सारथी बनने से पहले दुर्योधन के समक्ष एक शर्त रखी थी कि उन्हें स्वेच्छा से बोलने की छूट होनी चाहिए, चाहे उनकी बातें कर्ण को बुरी लगे या फिर अच्छी। दुर्योधन द्वारा इस शर्त को मानने के बाद महाभारत में जब भी कर्ण खुद की प्रशंसा करता शल्य उनका उपहास करना शुरू कर देते और कर्ण को हतोत्साहित करने का प्रयास करने लगते।


कमेंट करें