इंटरनेशनल

चीन ने आतंकवाद के मुद्दे पर भारत को सराहा, मोदी ने भी की जिनपिंग की तारीफ

सतीश वर्मा, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
98
| जुलाई 7 , 2017 , 16:07 IST | हैम्बर्ग

सिक्किम बॉर्डर पर भारत और चीन के बीच जारी गतिरोध और तनातनी के बीच चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने जी 20 शिखर सम्मेलन में भारत की तारीफ की है। G-20 समिट से इतर ब्रिक्स देशों की बैठक को संबोधित करते हुए चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने आतंकवाद के खिलाफ भारत के मजबूत इरादे की सराहना की है। गौरतलब है कि इस बैठक की अध्यक्षता भारत कर रहा है।

Bricks 1

पीएम मोदी ने ब्रिक्स में आतंकवाद का उठाया मुद्दा

जर्मनी के हैम्बर्ग शहर में जी-20 शिखर सम्मेलन औपचारिक तौर पर शुरू हो गया है। चीनी राष्ट्रपति के संबोधन से पहले ब्रिक्स देशों की बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आतंकवाद का मुद्दा उठाया और सबसे बड़े कर सुधार जीएसटी के बारे में भी बात की। अर्थव्यवस्था को गति देने के लिए किए जा रहे सुधारों का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि जीएसटी से पूरा भारत एक मार्केट बन जाएगा।

मोदी ने भी कि जिनपिंग की तारीफ

मोदी ने कहा, "BRICS को जिनपिंग की चेयरमैनशिप के दौरान एक सकारात्मक दिशा मिली है। इससे पहले जर्मन चांसलर एंजेला मर्केल ने हैम्बर्ग में मोदी का स्वागत किया। मोदी जी 20 समिट से पहले BRICS की ग्रुप मीटिंग के दौरान शी जिनपिंग से मिले, उन्हें बधाइयां दीं और सहयोग करने की बात कही। मीटिंग में व्लादिमीर पुतिन भी मौजूद थे।

सिक्किम सेक्टर में भारतीय सेना की मौजूदगी से बढ़ा है तनाव

गौरतलब है कि बता दें कि सिक्किम सेक्टर में डोकलाम में भारतीय सेनाओं की मौजूदगी को लेकर भारत और चीन में करीब 3 हफ्ते से तनाव बरकरार है। चीन ने भारतीय सेनाओं को पीछे हटने को कहा है।

जानिए G-20 में क्या-क्या है एजेंडा

G-20 समिट के दौरान दुनिया की 20 बड़ी अर्थव्यवस्था वाले देशों के नेता काउंटर टेरेरिज्म, क्लाइमेट चेंज और ग्लोबल ट्रेड पर बातचीत करेंगे

शेपिंग एन इंटर कनेक्टेड वर्ल्ड’ G-20 समिट की थीम रखी गई है। डोनाल्ड ट्रंप, व्लादिमीर पुतिन, तुर्की के प्रेसिडेंट रिसेप तैयप एर्दोगन, फ्रांस के प्रेसिडेंट एमानुएल मैक्रोनऔर ब्रिटेन की प्रधानमंत्री थेरेसा मे इसमें शामिल हुए हैं

G-20 के मेंबर्स कौन-कौन देश हैं

G20 में 19 देश और यूरोपीय यूनियन शामिल है। 19 देशों के नाम हैं- अर्जेंटीना, ऑस्ट्रेलिया, ब्राजील, कनाडा, चीन, फ्रांस, जर्मनी, भारत, इंडोनेशिया, इटली, जापान, मैक्सिको, रूस, सऊदी अरब, साउथ अफ्रीका, साउथ कोरिया, तुर्की, ब्रिटेन और अमेरिका। इसके साथ ही यूरोपीय यूनियन शामिल है। यहां सिक्युरिटी के लिए 15 हजार सिक्युरिटी पर्सनल तैनात रहेंगे।


कमेंट करें