नेशनल

पीएम ने दिया सिन्हा और शौरी को जवाब, कहा- कुछ लोगों को निराशा फैलाने में मजा आता है

अर्चित गुप्ता | 0
150
| अक्टूबर 4 , 2017 , 20:14 IST | नई दिल्ली

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिल्ली के विज्ञान भवन में इंस्टीट्यूट ऑफ कंपनी सेक्रेटरीज ऑफ इंडिया के गोल्डन जुबली समारोह कार्यक्रम को संबोधित करते हुए गिरते हुए जीडीपी पर पहली बार विपक्ष के साथ-साथ अपनी ही पार्टी के वरिष्ठ नेता यशवंत सिन्हा और अरुण शौरी को करारा जवाब दिया है। सरकार की आर्थिक नीतियों की आलोचना करने वालों को करारा जवाब देते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि कुछ लोगों को निराशा फैलाने में बड़ा मजा आता है।

उन्होंने कहा कि देश के विकास को विपरीत दिशा में ले जाने वाले पैरामीटर कुछ लोगों को पसंद आते थे और अब जबकि ये पैरामीटर सुधरे हैं और देश सही दिशा में आगे बढ़ रहा है, तो ऐसे लोगों को परेशानी हो रही है। ऐसे लोगों का अर्थव्यवस्था में विकास होता नहीं दिख रहा है। उन्होंने कहा कि 8 नवंबर 2016 को इतिहास में भ्रष्टाचार से मुक्ति के लिए उठाए गए कदम के रूप में जाना जाएगा।

अब ब्लैकमनी लेन देन में 50 बार सोचना पड़ता है। महाभारत में शल्य एक शख्स था, जो लोगों को हतोत्साहित करता था। आज भी कुछ लोगों को निराशा फैलाने में मजा आता है। घटती जीडीपी को लेकर सवाल खड़े करने वालों को करारा जवाब देते हुए मोदी ने पूछा कि क्या देश में विकास दर पहली बार गिरी है ? उन्होंने कहा कि पिछली सरकार में 8 बार जीडीपी की दर 5.7 परसेंट से नीचे गई थी।

उन्होंने कहा कि लोगों को नहीं भूलना चाहिए कि देश ने एक तिमाही में 0.2 परसेंट की विकास दर भी देख रखी है। पीएम ने कहा कि ये सच है कि पिछले तीन साल 7 फीसदी से ज्यादा की विकास दर हासिल करने के बाद इस बार इसमें गिरावट आई, लेकिन ये भी सच है कि यह सरकार इसे दूर करने के लिए प्रतिबद्ध है।


कमेंट करें