नेशनल

4 सालों में सबसे छोटा भाषण दिया पीएम ने, प्रोटोकॉल तोड़ बच्चों से मिले (तस्वीरें)

आरती यादव, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
307
| अगस्त 15 , 2017 , 13:24 IST | नई दिल्ली

आजादी के 70वें साल पर पीएम नरेंद्र मोदी ने लाल किले से देश को चौथी बार संबोधित किया। मोदी की इस बार की स्पीच में दो खास बातें थी। पहली खास बात थी कि मोदी की यह स्पीच अब तक की सबसे छोटी स्पीच थी और दूसरी खास बात यह थी कि पीएम ने स्पीच के लिए काग़जों का सहारा लिया।

Independence-day_c08be23a-8186-11e7-b63c-9d281adafd5e

इस बार स्वतंत्रता दिवस पर पीएम मोदी ने सिर्फ 54 मिनट का भाषण दिया जो कि उनके पीएम बनने के बाद अब तक का सबसे छोटा भाषण है। अगर हम पीएम मोदी के स्वतंत्रता दिवस के पिछले भाषणों पर नजर डालें तो उन्होंने वर्ष 2014 में 65 मिनट और 2015 में 86 मिनट और वर्ष 2016 में 94 मिनट का भाषण दिया था। अक्सर पीएम मोदी को भाषण देने के लिए किसी भी लिखी हुई स्क्रिप्ट की जरुरत नहीं होती थी। लेकिन इस बार खास बात यह भी रही कि इस बार मोदी ने पढ़कर देश की जनता को संबोधित किया।

Modi-indpendence-day (1)

पीएम मोदी के इस बार छोटे भाषण देने की एक वजह यह भी हो सकती है कि शायद उन्हें पता चला गया हो कि जनता उनके लंबे-लंबे भाषणों से परेशान हो जाती है। बता दें कि पीएम मोदी ने अपने पिछली मन की बात में कहा था कि उन्हें लोगों के शिकायत भरे पत्र मिले थे कि उनके स्वतंत्रता दिवस के भाषण बहुत लंबे होते हैं। इसलिए मोदी ने जुलाई में मन की बात में वादा किया था कि उनका इस बार का स्वतंत्रता दिवस भाषण छोटा होगा। इसलिए पीएम मोदी ने वादा निभाते हुए इस बार 54 मिनट का भाषण दिया।

DHP09RWUIAAIlMq

स्वतंत्रता दिवस पर एक बार फिर पीएम नरेंद्र प्रोटोकॉल तोड़कर लाल किले पर मौजूद बच्चों से मिलने पहुंच गए। बच्चों को लेकर उनका प्यार कई बार लोगों ने देखा होगा। इस बार भी वह सबसे ज्यादा खुश बच्चों के साथ ही नजर आए। पीएम मोदी को हर तरफ से बच्चों ने घेर लिया। बच्चे पीएम से मिलने के लिए इतने उत्साहित थे कि बीच में धक्कामुक्की जैसी स्थिति भी आ गई थी। पीएम ने बच्चों से हाथ मिलाया। कुछ बच्चे भगवान श्रीकृष्ण के वेष में दिखे तो कुछ बच्चों ने सफेद रंग के कपड़े पहने थे। पीएम के साथ फोटो खिंचवाने के लिए बच्चों में होड़ लग गई।

DHP1CPYUMAAyGOG

गौरतलब है कि ऐसा पहली बार नहीं हुआ है जब पीएम ने बच्चों से मिलने के लिए प्रोटोकॉल तोड़ा है। इससे पहले भी 2014, 2015 और 2016 में नरेंद्र मोदी ने प्रोटोकॉल तोड़ बच्चों से मुलाकात की थी।


कमेंट करें