नेशनल

पूर्व CJI पीएन भगवती का निधन, जनहित याचिका शुरू कर आम लोगों को दी थी ताकत

अनुराग गुप्ता, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
106
| जून 16 , 2017 , 16:46 IST | नई दिल्ली

सुप्रीम कोर्ट के पूर्व मुख्य न्यायाधीश जस्टिस पीएन भगवती का गुरुवार को निधन हो गया। 95 वर्ष के भगवती पिछले कुछ दिनों से बीमार चल रहे थे। भगवती गुजरात हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश थे। 1973 में उन्हें सुप्रीम कोर्ट में जज नियुक्त किया गया था। जस्टिस भगवती का भारतीय न्याय व्यवस्था के लिए सबसे बड़ा योगदान जनहित याचिका यानि की पीआईएल है।

Hqdefault

जस्टिस भगवती के परिवारिक सूत्रों से पता चला कि वो पिछले कुछ दिनों से बीमार चल रहे थे। जस्टिस भगवती अपने पीछे अपनी पत्नी प्रभावती और तीन बेटियों को छोड़ गए। उनका अंतिम संस्कार 17 जून को किया जाएगा। देश के 17वें मुख्य न्यायधीश रहे जस्टिस भगवती के निधन पर राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दुख जताया। 

 

1985 से दिसंबर 1986 तक मुख्य न्यायधीश रहे भगवती ने सन 1986 में पिछड़े और सुविधाहीन लोगों के हितों की रक्षा को ध्यान में रखते हुए पीआईएल पेश किया था। जनहित याचिका को लागू करने में अहम योगदान करने वाले जस्टिस भगवती ने कहा था कि मूलभूत अधिकारों के मुद्दे पर कोर्ट का दरवाजा खटखटाने के लिए किसी व्यक्ति को किसी अधिकार की जरूरत नहीं है।


कमेंट करें