नेशनल

प्रियंका गांधी बोलीं- पति रॉबर्ट वाड्रा के पैसों से नहीं, अपनी संपत्ति से खरीदी ज़मीन

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
169
| जनवरी 1 , 1970 , 05:30 IST | नई दिल्ली

कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी वाड्रा ने उन खबरों को निराधार बताया है जिसमें कहा गया है कि उन्होंने हरियाणा में जमीन अपने पति रॉबर्ट वाड्रा या किसी कंपनी द्वारा अवैध तरीके से कमाये गये पैसे से खरीदी है।

प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा,

उनकी संपत्ति से उनके पति रॉबर्ट वाड्रा या उनकी कंपनी स्काईलाइट हॉस्पिटालिटी का कोई लेना-देना नहीं है जो रियल्टी कंपनी डीएलएफ के साथ भूमि सौदों को लेकर हरियाणा सरकार की नजरों में है

प्रियंका गांधी के कार्यालय द्वारा जारी बयान में कहा गया है-' स्काईलाइट हॉस्प‍िटालिटी के कथित जमीन सौदे से पहले 28 अप्रैल, 2006 को प्रियंका गांधी वाड्रा ने 40 केनाल (5 एकड़) जमीन हरियाणा के फरीदाबाद जिले के अमिपुर गांव में खरीदी थी। इसके लिए 3 लाख रुपये प्रति एकड़ के हिसाब से 15 लाख रुपये का समग्र भुगतान चेक से किया गया था।

Pg 2

इस बयान में आगे कहा गया है, 'जमीन खरीदने के लिए अपनी दादी इंदिरा गांधी से विरासत में मिली प्रॉपर्टी का इस्तेमाल किया था। खरीदी गई इस जमीन के लिए प्रियंका गांधी ने खुद पैसा भरा था और इस पैसे का उनके पति रॉबर्ट वाड्रा या स्काईलाइट हॉस्पिटालिटी और डीएलएफ कंपनी से कोई संबंध नहीं है।

श्रीमती गांधी ने इसके लिए जरूरी 4 फीसदी का स्टैम्प ड्यूटी चुकाया था, जो कि जमीन की कीमत के लिहाज से 60,000 रुपये था। बाद में 17 फरवरी, 2010 को प्रियंका गांधी ने इस जमीन को इसके मूल मालिक को 80 लाख रुपये में बेच दिया और इसके लिए भुगतान भी चेक से लिया गया। यह तत्कालीन बाजार मूल्य के हिसाब से था।

प्रियंका गांधी ने कहा,

उनके खिलाफ लगाए जा रहे आरोप एक संदिग्ध दस्तावेज पर आधारित हैं और यह उनकी छवि को खराब करने की एक सोची-समझी राजनीतिक साजिश है

ढींगरा कमीशन की रिपोर्ट भी चर्चा में

इस खबर के इतर, ढींगरा कमीशन की रिपोर्ट की खबर भी चर्चा में है। खबर है कि रॉबर्ट वाड्रा ने साल 2008 में हरियाणा में एक लैंड डील से गैरकानूनी रूप से 5050 करोड़ रुपये का मुनाफा बनाया था, जबकि उस लैंड डील में उनका एक पैसा भी व्यय नहीं हुआ था।

Pg 3