अभी-अभी

इंटरनेशनल कोर्ट में भारत ने कहा- बीच सुनवाई में कुलभूषण जाधव को फांसी दे सकता है पाकिस्तान

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
125
| मई 15 , 2017 , 15:58 IST | दि हेग

भारतीय नौसेना के पूर्व अधिकारी कुलभूषण जाधव को पाकिस्तानी की सैन्य अदालत द्वारा दिए गए फांसी की सजा के खिलाफ इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस में सुनवाई शुरू हो गई है। इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस में 11 जजों की बेंच इस मामले की सुनवाई कर रही है। कोर्ट में भारत की तरफ से मशहूर वकील हरीश साल्वे केस लड़ रहे हैं। 

 

इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस में भारत का पक्ष रखते हुए हरीश साल्वे ने कहा- 

* कबूलनामे वाली वीडियो से छेड़छाड़ की गई
* जाधव पर दबाव बनाकर बयान दर्ज किया गया
* ICJ पाकिस्तानी सैन्य कोर्ट का फैसला रद्द करे
* जाधव को ईरान से अगवा किया गया
* भारत जाधव पर लगे सभी आरोपों को खारिज करता है
* भारत ने 16 बार राजनयिक मदद की गुहार लगाई
* ICJ पर हमें पूरा भरोसा है
* तथाकथित सुनवाई में कोई सबूत नहीं दिया गया
* भारत को पाकिस्तानी मीडिया से खबर मिली
* ऐसे तीन मामले हैं जिसमें ICJ ने वियना संधि के अनुच्छेद 36 के आधार पर फैसला सुनाया
* पाकिस्तान ने भारत की गुहार पर प्रतिक्रिया नहीं दी
* जाधव के माता-पिता को पाकिस्तान का वीजा नहीं दिया गया
* जाधव से मिलने का वक्त नहीं दिया गया
* वियना संधि में राजनयिकों से मिलने की परमिशन देने की बात है
* संधि के मुताबिक आरोपी को राजनयिक मदद मिलने का अधिकार है
* ये नागरिक और देश के अधिकार का उल्लंघन है
* पाकिस्तान ने वियना संधि का उल्लंघन किया
* पाकिस्तान ने आनन-फानन में जो फैसला सुनाया है, उसे वो रद्द करे
* जाधव की फांसी मानवाधिकारों का उल्लंघन है
* पाकिस्तान ने राजनयिक मदद देने पर शर्त रखी 

आपको बता दें कि पाकिस्तान ने कुलभूषण जाधव को जासूसी का दोषी मानते हुए पाकिस्तान की सैन्य अदालत ने 10 अप्रैल को जाधव को फांसी की सजा सुनाई थी। जिसके विरोध में भारत ने इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस में इस मामले को उठाया है। 

 

भारत ने पाकिस्तान में भारतीय एबेंसी के अफसरों की जाधव से मुलाकात करवाने की इजाजत मांगी थी, लेकिन पाकिस्तान सरकार ने भारत की इस मांग को ठुकरा दिया था।


कमेंट करें