राजनीति

अमेठी में राहुल ने कहा- मोदी जी किसी की नहीं सुनते, जो मन में आता है देश पर थोप देते हैं

श्वेता बाजपेई, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
171
| अक्टूबर 4 , 2017 , 19:43 IST | अमेठी

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी अपने संसदीय क्षेत्र अमेठी के दौरे पर हैं। राहुल ने अपने दौरे के पहले दिन अमेठी में कांग्रेस कार्यकर्ताओं और लोगों को संबोधित किया। इस दौरान राहुल ने केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि मोदी जी किसी की नहीं सुनते, जो मन में आता है उसे देश पर थोप देते हैं। जब कि कांग्रेस की नीति जनभागीदारी की रही है। राहुल गांधी ने कहा कि कांग्रेस कोई भी योजना शुरू करती थी तो पहले जनता से राय ली जाती थी, लेकिन अब ऐसा नहीं है। हमारे प्रधानमंत्री सो कर उठते हैं और एक नया कार्यक्रम देश की जनता पर डाल देते हैं। भले ही देश को उसकी जरूरत हो भी या नहीं।

जीएसटी का उल्लेख करते हुए कांग्रेस उपाध्यक्ष ने कहा कि जीएसटी कांग्रेस का कार्यक्रम था। इसे लागू करने से पहले कांग्रेस ने देश के कारोबारियों से उनके विचार जाने। लोगों ने कहा कि तमाम तरह के टैक्स खत्म करके एक टैक्स लगाया जाए और जिसकी सीमा अधिकतम 18 फीसदी तक हो। कांग्रेस इसी अवधारणा पर काम कर रही थी।

राहुल ने नोटबंदी के फैसले के बाद देश की गिरती जीडीपी को लेकर सवाल उठाए। इसके साथ ही राहुल ने वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) पर सवाल उठाते हुए कहा, 'मोदी सरकार ने 5 अलग-अलग टैक्स लगाए। 28 प्रतिशत तक टैक्स लगा दिया। हर प्रदेश में अलग-अलग टैक्स लगा दिया। छोटे दुकानदारों को काफी मुश्किल हो रही है। किसी का 18 किसी का 2 किसी का 28 प्रतिशत टैक्स। इन्होंने जीएसटी को समझा नहीं है, गलत जीएसटी लागू कर दिया है। अब छोटा व्यापारी व्यापार करे या महीने में 3 फॉर्म भरे। हर छोटा दुकानदार तंग आ गया है। लोग रो रहे हैं।'

उन्होंने कहा कि एक तरफ हमारे प्रधानमंत्री जी है जिन्होंने बिना कोई विचार करे, देश के कारोबारियों पर जीएसटी थोप दिया। और उसमें भी चार तरह के टैक्स और 28 फीसदी तक। इतना ही नहीं केंद्र के टैक्स अलग और राज्यों के अलग। उन्होंने मोदी सरकार पर कटाक्ष करते हुए कहा कि अगर कोई छोटा दुकानदार कुछ चीजों का मिलाकर बेच रहा है, तो उसके सामने समस्या है कि वह एक पैकेट पर अलग-अलग चीजों पर टैक्स का निर्धारण कैसे करे। उन्होंने कहा कि जीएसटी की जटिलता से छोटे उद्योग बंद हो रहे हैं। उद्योग-धंधे बंद होने से बड़ी संख्या में लोग बेरोजगार हो रहे हैं। और हमारे प्रधानमंत्री हैं कि आधुनिक भारत और विकसित भारत की दुहाई देते नहीं थक रहे हैं।

राहुल ने साथ ही रोजगार के मामले में मोदी सरकार को कठघरे में खड़ा करते हुए कहा, 'बेरोजगारी बढ़ती जा रही है। हिंदुस्तान में हर रोज 30 हजार युवा रोजगार ढूंढ़ने के लिए निकलते हैं। 30 हजार में से सिर्फ 400 को रोजगार देते हैं। यह है मोदी सरकार का मेक इन इंडिया। क्या भैया आप लोग बता सकते हो चीन में रोज कितने रोजगार पैदा होते हैं। हर रोज चीन में 50 हजार युवाओं को रोजगार मिलता है। जबकि भारत में बाकी 30 हजार में से जो बच गए, उन्हें रोजगार नहीं मिलता। पूरे देश को मालूम है कि इस व्यक्ति (नरेंद्र मोदी) ने कहा था कि 2 करोड़ लोगों को हर साल रोजगार मिलेगा। युवाओं को रोजगार नहीं मिल रहा है। किसानों की जान जा रही है। किसानों की जमीन को हम किसी सूरत में छीनने नहीं देंगे।'

राहुल ने मनरेगा को लेकर भी मोदी सरकार पर हमला बोला। राहुल ने कहा कि उन्होंने (पीएम मोदी ने) कहा कि नरेगा बिल्कुल बेकार चीज है। कुछ महीने बाद बात समझ में आई और वही पीएम कहते हैं कि इस योजना में फायदा है।


कमेंट करें