राजनीति

ज्योतिरादित्य का बड़ा बयान: 2019 में विपक्ष का पीएम चेहरा होंगे राहुल गांधी

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
235
| जुलाई 9 , 2017 , 20:32 IST | भोपाल

कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया का कहना है कि कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को अक्टूबर में संगठनात्मक चुनाव प्रक्रिया पूरी होने पर पार्टी अध्यक्ष के पद पर प्रोन्नत किया जा सकता है और वह 2019 के लोकसभा चुनाव में विपक्ष का चेहरा होंगे।

वाजपेयी के इंडिया शाइनिंग की तरह ही फेल होगा मोदी का जादू

लोकसभा में कांग्रेस पार्टी के मुख्य सचेतक ज्योतिरादित्य सिंधिया का कहना है कि आत्मनिरीक्षण का समय खत्म हो गया है और पार्टी को 2019 के चुनावों में अपनी संभावनाओं में सुधार के लिए जल्द ही ठोस रणनीति के तहत काम शुरू करना होगा। उन्होंने कहा कि नरेंद्र मोदी सरकार को अगले चुनावों में हार का सामना करना पड़ेगा, ठीक उसी तरह जिस तरह 2004 में 'इंडिया शाइनिंग' के नारे के बावजूद अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) सरकार को हार का मुंह देखना पड़ा था।

Jy1

सिंधिया से जब पूछा गया कि अगले आम चुनाव में पार्टी का चेहरा कौन होगा, उन्होंने कहा कि,

राहुल गांधी पार्टी का नेतृत्व कर रहे हैं और वही पार्टी का नेतृत्व करेंगे

यह पूछने पर कि क्या राहुल गांधी कांग्रेस पार्टी का चेहरा भी होंगे, सिंधिया ने कहा कि,

मैं ऐसा सोचता हूं। मुझे लगता है कि विपक्ष राहुल गांधी को समर्थन देने के लिए एकजुट है और वह विपक्षी एकता का नेतृत्व करेंगे

पार्टी अध्यक्ष बनाने के लिए लंबे समय से उठ रही मांग

राहुल गांधी को पार्टी अध्यक्ष बनाए जाने को लेकर अटकलें लगाई जा रही हैं। कई नेताओं का सुझाव रहा है कि राहुल गांधी को अपनी मां सोनिया गांधी से पार्टी की बागडोर संभाल लेनी चाहिए।

Rahul 2

ज्योतिरादित्य सिंधिया गुना से सांसद हैं। उनका कहना है कि मोदी सरकार की कथनी और करनी में बहुत फर्क है। वह बोलती बहुत है लेकिन काम कुछ नहीं करती। सिंधिया ने कहा कि अब्राहम लिंकन ने कहा था कि आप सभी लोगों को कुछ समय के लिए बेवकूफ बना सकते हैं, या कुछ लोगों को हर समय बेवकूफ बना सकते हैं लेकिन आप हर किसी को हर समय बेवकूफ नहीं बना सकते। जब आपके पैरों के नीचे की जमीन खिसक रही हो तो आप प्रोपेगैंडा की बात नहीं करते रह सकते। यह वैसे ही है जैसे आपने 2003-2004 में 'इंडिया शाइनिंग' का हाल देखा था।

Rahul 4

कांग्रेस को मिलकर काम करना होगा

सिंधिया ने कहा, "मुझे लगता है कि यह जरूरी है कि हम एकजुट होकर काम करें और आगे बढ़ें। राज्यों में होने वाले चुनावों में और 2019 के लोकसभा चुनाव के लिए एक स्पष्ट रणनीति होनी चाहिए। कांग्रेस की 2014 के लोकसभा चुनाव में करारी हार के बाद पंजाब ही एकमात्र राज्य है, जहां पार्टी को जीत नसीब हुई और पार्टी ने सरकार बनाई है। सिंधिया का कहना है कि हर पार्टी उतार-चढ़ाव से गुजरती है। पार्टी ने 2004 और 2009 में गठंबधन सरकारें बनाई थीं।

 

 

 


कमेंट करें