अभी-अभी

रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने की इस्तीफे की पेशकश, प्रधानमंत्री ने कहा- अभी इंतजार कीजिये

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
142
| अगस्त 23 , 2017 , 16:54 IST | नयी दिल्ली

रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने लगातार बढ़ रहे ट्रेन हादसों की नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए पद से इस्तीफे की पेशकश की है। बुधवार को एक के बाद एक किए कई ट्वीट्स में प्रभु ने इशारों-इशारों में बताया कि वह पीएम मोदी को इस्तीफा सौंप चुके हैं। उन्होंने लिखा कि मोदी ने उन्हें इंतजार करने को कहा है। प्रभु ने इसके साथ ही इन हादसों की नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए अपना पक्ष रखने की भी कोशिश की।

प्रभु ने ट्वीट करके लिखा,

मैंने माननीय पीएम नरेंद्र मोदी से मिलकर पूरी नैतिक जिम्मेदारी ली है। माननीय पीएम ने मुझे इंतजार करने को कहा है।

सुरेश प्रभु ने कहा कि 'मुझे इन दुर्भाग्यपूर्ण घटनाओं, यात्रियों के घायल होने और उनको हुए जानमाल के नुकसान और से बहुत ज्यादा पीड़ा हुई है।' उन्होंने कहा कि पीएम मोदी की अगुआई में न्यू इंडिया को एक ऐसे रेलवे की जरूरत है जो सक्षम और आधुनिक हो। उन्होंने कहा, 'मेरा वादा है कि रेलवे उसी रास्ते पर आगे बढ़ रहा है।' उन्होंने बताया कि पीएम नरेंद्र मोदी की लीडरशिप में दशकों से तिरस्कृत (रेलवे को) से निकलने के लिए सभी क्षेत्रों में चरणबद्ध रिफॉर्म्स की कोशिश की, जिसका नतीजन अभूतपूर्व निवेश और उपलब्धियां हासिल हुई हैं। प्रभु ने लिखा, 'तीन साल से कम वक्त के दौरान बतौर मंत्री रेलवे की बेहतरी के लिए मैंने अपना खून-पसीना बहाया है।'

बता दें कि पहले उत्कल एक्सप्रेस और फिर कैफियत एक्सप्रेस की दुर्घटना के बाद रेलवे प्रशासन पर लापरवाही का आरोप लग रहा है। खुद प्रभु आलोचकों के निशाने पर हैं। विपक्ष उनका इस्तीफा मांग चुका है।

इससे पहले, रेलवे बोर्ड के चेयरमैन एके मित्तल ने इस्तीफा दे दिया। बीते एक हफ्ते में दो रेल हादसों के बाद रेलवे प्रशासन दबाव में है। शनिवार को मुजफ्फरनगर जिले के खतौली में कलिंग-उत्कल एक्सप्रेस के हादसे का शिकार होने की वजह से 22 लोगों की जान चली गई थी। 200 से ज्यादा लोग घायल हुए थे। वहीं, बुधवार को आजमगढ़ से दिल्ली जाने वाली कैफियत एक्सप्रेस एक बालू के डंपर से टकरा गई, जिसकी वजह से 78 लोग घायल हो गए।


कमेंट करें