मनोरंजन

Movie Review: सरकार-3 , भारी डॉयलॉग और पुरानी कहानी वाली इस फिल्म में नया क्या है?

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
161
| मई 12 , 2017 , 11:55 IST | मुंबई

'सरकार' यानी सुभाष नागरे, गरीबों का हमदर्द, मुंबई का रखवाला जिसके सामने प्रशासन की भी नहीं चलती, जिसके एक हाथ में माला है और दूसरे हाथ में भाला है, 'सरकार' वही करता है जो वह सही मानता है। रामगोपाल वर्मा की 'सरकार' श्रृंखला की तीसरी फिल्म सरकार-3 शुक्रवार को सिनेमाघरों में रिलीज़ हो गई। 

Sarkar

फिल्म की कहानी


इस फिल्म में 'सुभाष नागरे' का किरदार बॉलीबुड के दिग्गज अभिनेता 'अमिताभ बच्चन' ने निभाया हैं, यह फिल्म 'सुभाष नागरे' की कहानी है जिसे जनता ‘सरकार’ कहती हैं। सरकार को जो सही लगता है वो करता है चाहें वो भगवान के खिलाफ हो, समाज के खिलाफ हो, कानून के खिलाफ हो या फिर पूरे सिस्टम के खिलाफ ही क्यों ना हो। इस फिल्म में सरकार का पोता शिवाजी नागरे (अमित साध) की एंट्री होती है। ये बात सरकार के दो खास लोग गोकुल (रॉनित रॉय) और गोरख (भरत दाभोलकर) को खटकती है। यही से शुरू होता है शतरंज का खेल (शह और मात)।

59d5651c-3676-11e7-bd82-6d419ba359be

म्यूजिक


फ़िल्म में गाने के नाम पर अमिताभ बच्चन की गाई हुई 'गणेश आरती' है। इस आरती का म्यूजिक ज़बरदस्त है। फ़िल्म के बीच-बीच में 'सरकार' का सिग्नेचर 'गोविंदा-गोविंदा' बज उठता है। लेकिन कई बार इसका बजना बेवजह सा भी लगता है।

कहीं-कहीं बैकग्राउंड म्यूज़िक पूरे सीन पर हावी हो जाता है। लगता है अगर इस वक़्त पूरा सन्नाटा होता तो शायद इस सीन का प्रभाव और गहरा पड़ता।

Sarkar-3

फिल्म की खामियां


फिल्म की स्क्रिप्ट इतनी ढ़ीली है कि इंटरवल तक ये समझ ही नहीं आता है कि आखिरकार रामगोपाल वर्मा इस फिल्म में दिखाना क्या चाहते हैं। इंटरवल के बाद में जब स्टोरी आगे बढ़ती है तो रामगोपाल वर्मा ने सस्पेंस क्रिएट करने की कोशिश की है लेकिन सिनेमाहॉल में हर दर्शक को पता होता है कि क्लाइमैक्स क्या है। फिल्म में कोई भी सीन एक दूसरे से जुड़ा हुआ नहीं लगता। ऐसा लगता है कि उन्हें फिल्म के हर सीन बस अलग-अलग शूट करके एक जगह रख दिए हैं। इन सब के अलावा सरकार 3 में वही पुराने डायलॉग हैं जो हम कई बार सुन चुके हैं।

जैसे:-

"हर अच्छाई की एक कीमत होती है वो चाहें पैसा हो या फिर दर्द", "जो उसूलों के रास्ते पर चलते हैं उनके दोस्त कम होते हैं और दुश्मन ज्यादा", "लालच और डर किसी को भी गद्दार बना देता है", "ये खेल उन्होंने शुरू किया है और खत्म मैं करूंगा", "पत्थर मारोगे तो कीचड़ तो उछलेगा ही", "राजनीति उतनी भी बुरी नहीं है जितना लोग समझते हैं"

Sarkar-3-bollywood-movie-images

 

फिल्म क्यों देखनी चाहिए


अगर आप सरकार सीरिज या फिर रामगोपाल वर्मा के फैन हैं तो ये फिल्म देखनी चाहिए। लेकिन ये फिल्म उन्हें बहुत निराश करेगी जो ये उम्मीद लगाए बैठे थे कि राम गोपाल वर्मा इस फिल्म से अपनी धमाकेदार वापसी कर रहे हैं। 

Ramgopal

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया रेटिंग 

स्टार कास्ट: अमिताभ बच्चन, मनोज बाजपेयी, अमित साध, यामी गौतम, रोनित रॉय,जैकी श्रॉफ

डायरेक्टर: रामगोपाल वर्मा
रेटिंग: 2 स्टार

Sarkar-3-review


कमेंट करें