नेशनल

विवादों के बाद पहली बार सामने आई राम रहीम की हनीप्रीत, बोलीं- मैं और मेरे पापा बेगुनाह

सतीश वर्मा, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 1
259
| अक्टूबर 3 , 2017 , 11:57 IST | नई दिल्ली

डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम को सजा के बाद से फरार चल रही उनकी करीबी हनीप्रीत आखिरकार आमने आ गई हैं। पुलिस टीमों को लगातार चकमा देती रहीं हनीप्रीत मंगलवार को न्यूज चैनल्स पर नजर आईं और खुद को बेगुनाह करार दिया। हनीप्रीत ने राम रहीम को पूरी तरह निर्दोष बताया और कहा कि 'पापा' और उनका रिश्ता बेहद पवित्र है।

बोली सरेंडर कर- कानूनी सलाह लूंगी

हनीप्रीत ने कहा कि अब वह पंजाब-हरियाणा हाई कोर्ट का रुख करेंगी और कानूनी सलाह लेंगी। बता दें कि हनीप्रीत राजद्रोह के केस का सामना कर रही हैं। पंचकूला में हिंसा भड़काने के आरोप में हनीप्रीत के खिलाफ सेक्टर-5 थाने में केस दर्ज है। हनीप्रीत पर आरोप है कि उसने साध्वियों से रेप के दोषी राम रहीम को पुलिस कस्टडी से छुड़ाने की साजिश रची थी।

न्यूज चैनल्स को दिए इंटरव्यू में इतने दिनों तक गायब रहने के सवाल पर हनीप्रीत ने कहा कि उन्हें कुछ समझ नहीं आ रहा था। उन्होंने कहा, 'मैं हरियाणा से किसी तरह दिल्ली गई। अब हरियाणा-पंजाब कोर्ट में जाऊंगी।' सरेंडर के सवाल पर हनीप्रीत ने कहा कि वह कानूनी सलाह लेंगी।

Honey 1

हनीप्रीत ने कहा कि वह कभी भी नेपाल नहीं गई थीं और देश में ही रह रही थीं। उन्होंने कहा, 'मैं इतनी डरी हुई थी कि अपनी मानसिक स्थिति बयां नहीं कर सकती हूं। मुझे तो किसी तरह की प्रक्रिया भी नहीं पता थी। कुछ लोग कह रहे हैं कि मैं अपने पापा के साथ हेलिकॉप्टर में कैसे गई, तो मैं आपको बता दूं कि यह कोर्ट की इजाजत के बाद हुआ है।

अपने ऊपर दंगा भड़काने के आरोपों पर भी बोलते हुए हनीप्रीत ने कहा, 'आप कोई एक क्लिप ऐसी दिखा दीजिए जिसमें मैं ऐसा कुछ कह रही हूं या कर रही हूं। कुछ लोगों को साजिश के तहत दंगा भड़काने के लिए भेजा गया था।' इस दौरान जब उनसे डेरे के रहस्यों के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, 'जो लोग डेरे में नर कंकाल होने की बात करते हैं, मैं उनसे पूछती हूं कि क्या नरकंकाल मिले? जिन दो लड़कियों ने आरोप लगाए हैं क्या वे कभी सामने आईं? सिर्फ चिट्ठियों के आधार पर दोषी बना दिया।

Honey 3

राम रहीम से रिश्तों पर भी बोलीं हनीप्रीत

हनीप्रीत ने कहा कि उनका और राम रहीम का रिश्ता बेहद पवित्र रिश्ता है। यह उतना ही पाक है, जितना बाप-बेटी का रिश्ता होता है। क्या बाप बेटी के सिर पर हाथ नहीं रख सकता? क्या बेटी अपने पिता से लाड़ नहीं कर सकती? इस दौरान जब उनके पूर्व पति के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, 'मैं विश्वास गुप्ता के बारे में बात भी नहीं करना चाहती।'

'ऐक्ट्रेस बनने की कोई इच्छा नहीं थी'

इस दौरान जब पूछा गया कि क्या राम रहीम को फिल्मों में लाने की आइडिया उन्हीं का था, तो हनीप्रीत ने कहा, 'इसमें मेरा कोई रोल नहीं था। मैं कभी भी ऐक्ट्रेस नहीं बनना चाहती थी। वह सिर्फ कैमरे के पीछे काम करना चाहती थी। लेकिन पापा ने मुझे काम करने को कहा इसलिए मैंने काम किया।'

 

 

 

 


कमेंट करें