राजनीति

रामनाथ कोविंद बने BJP के राष्ट्रपति उम्मीदवार, बिहार के हैं राज्यपाल

सतीश वर्मा, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
318
| जून 19 , 2017 , 16:50 IST | नई दिल्ली

राष्ट्रपति पद के चुनाव में एनडीए उम्मीदवार के नाम पर फैसला के लिए बीजेपी संसदीय बोर्ड की अहम बैठक में करीब एक घंटे तक चले मंथन के बाद बिहार के राज्यपाल रामनाथ कोविंद को एनडीए की तरफ से राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार घोषित किया गया है।

बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार की नाम की घोषणा करते कहा कि बिहार के राज्यपाल रामनाथ कोविंद एनडीए की तरफ से राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार होंगे।

बता दें कि रामनाथ कोविंद बीजेपी का दलित चेहरा हैं और वो राज्यसभा के सांसद रह चुके हैं। रामनाथ कोविंद पेशे से वकील हैं। बता दें कि अगर रामनाथ कोविंद राष्ट्रपति बनते हैं तो डॉ. के आर नारायणन के बाद रामनाथ कोविंद दूसरे दलित राष्ट्रपति होंगे। 

राष्ट्रपति कैंडिडेट तय करने को लेकर राजधानी में बीजेपी संसदीय बोर्ड की बैठक सोमवार को हुई। पीएम नरेंद्र मोदी, बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह समेत सभी बड़े नेता इस बैठक में पहुंचे। मीटिंग में राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार का नाम तय हुआ।

मीटिंग में सांसदों और विधायकों को उपस्थित होने को कहा गया था ताकि वे राष्ट्रपति के लिए नॉमिनेशन पेपर्स पर हस्ताक्षर कर सकें। नामांकन प्रक्रिया सोमवार को ही शुरू हुई है। मीटर करीब 45 मिनट चली। बता दें कि बीजेपी ने राष्ट्रपति कैंडिडेट के मुद्दे पर एनडीए सहयोगियों और विपक्षी पार्टियों से राय-मशविरे का दौर पूरा कर लिया है।

Bjp 1

जानें रामनाथ कोविंद का राजनीतिक प्रोफाइल

वर्तमान में बिहार के राज्यपाल रामनाथ कोविंद साल 1994 से 2006 के बीच दो बार राज्यसभा सदस्य रह चुके हैं। कोविंद उत्तर प्रदेश के कानपुर से हैं। पेशे से वकील कोविंद भाजपा के अनुसूचित जाति मोर्चा के प्रमुख भी रहे हैं।

वे 1977 में पूर्व प्रधानमंत्री मोरारजी देसाई के विशेष कार्यकारी अधिकारी रहे चुके हैं
हरिद्वार में गंगा के तट पर स्थित कुष्ठ रोगियों की सेवा के लिए समर्पित संस्था दिव्य प्रेम सेवा मिशन के आजीवन संरक्षक भी रहे हैं। 

कानपुर देहात में हुआ जन्म

उन्होंने कानपुर देहात की डेरापुर तहसील के गांव परौंख में जन्मे रामनाथ कोविंद ने सर्वोच्च न्यायालय में वकालत से कॅरियर की शुरुआत की थी। साल 1977 में जनता पार्टी की सरकार बनने के बाद वह तत्कालीन प्रधानमंत्री मोरारजी देसाई के निजी सचिव बने थे, इसके बाद बीजेपी नेतृत्व के संपर्क में आए।

आईएएस परीक्षा में तीसरे प्रयास में मिली थी सफलता

परौख गांव में 1945 में जन्मे रामनाथ कोविद की प्रारंभिक शिक्षा संदलपुर ब्लाक के ग्राम खानपुर परिषदीय प्राथमिक व पूर्व माध्यमिक विद्यालय हुई। कानपुर नगर के बीएनएसडी इंटरमीडिएट परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद डीएवी कॉलेज से बी कॉम व डीएवी लॉ कालेज से विधि स्नातक की पढ़ाई पूरी की। कोविंद ने दिल्ली में रहकर IAS की परीक्षा तीसरे प्रयास में पास की।

लेकिन मुख्य सेवा के बजाय एलायड सेवा में चयन होने पर नौकरी ठुकरा दी। जून 1975 में आपातकाल के बाद जनता पार्टी की सरकार बनने पर वे वित्त मंत्री मोरारजी देसाई के निजी सचिव रहे थे। जनता पार्टी की सरकार में सुप्रीम कोर्ट के जूनियर काउंसलर के पद पर कार्य किया।


कमेंट करें