अभी-अभी

15 लाख के इनामी नक्सली ने किया सरेंडर, पूर्व मंत्री और पुलिसकर्मी की कर चुका है हत्या

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
134
| मई 14 , 2017 , 19:32 IST | रांची

एक पूर्व मंत्री और एक पुलिसकर्मी की हत्या कर चुके वरिष्ठ नक्सली कमांडर ने रविवार को पुलिस के समक्ष समर्पण कर दिया। झारखंड के तीन जिलों में आतंक का पर्याय बन चुके कुंदन पाहन ने अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक आर. के. मलिक और केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के महानिरीक्षक आनंद लटकार की उपस्थिति में समर्पण किया।

रांची के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक कुलदीप द्विवेदी ने पत्रकारों से कहा कि कुंदन के सिर पर 15 लाख रुपये का इनाम था।

द्विवेदी ने बताया कि कुंदन पूर्व मंत्री और तत्कालीन विधायक रमेश सिंह मुंडा की 2008 में हत्या करने, पुलिस निरीक्षक फ्रांसिस इंदुवर का सिर कलम करने और आईसीआईसी बैंक के नकदी वाहन से पांच करोड़ रुपये की लूट करने में शामिल था।

Kundan50_1494764150

उन्होंने कहा कि कुंदन के खिलाफ झारखंड में कुल 128 मामले दर्ज हैं।

झारखंड की राजधानी रांची के अलावा खुटी और सरायकेला-खरसावा जिलों में कुंदन काफी कुख्यात था। रांची और जमशेदपुर जिलों से वह अपने नक्सली वारदातों को अंजाम देता था।

कुंदन के आदेश पर खुटी से विशेष शाखा के निरीक्षक इंदुवर का अपहरण कर लिया गया था। बाद में सिर काट कर इंदुवर की हत्या कर दी गई थी।

Kundan70_1494764164

कुंदन 16 वर्ष की आयु में 1999 में नक्सली आंदोलन से जुड़ा। वह 2006 में प्रतिबंधित भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (माओवादी) की क्षेत्रीय समिति का सदस्य बना और 2012 में समिति का सचिव बन गया।

इस अवसर पर मलिक ने कहा कि इस वर्ष नक्सलियों के पास समर्पण करने का मौका है,

अन्यथा अगले साल उन्हें गंभीर परिणाम भुगतने होंगे।

Kundan_1494764140

झारखंड पुलिस ने नक्सलियों को समर्पण करने को प्रेरित करने के लिए एक नया कार्यक्रम शुरू किया है। इस कार्यक्रम के तहत अब तक 107 नक्सली समर्पण कर चुके हैं।

इसी महीने इससे पहले एक और दुर्दात नक्सली और 15 लाख रुपये के इनामी नकुल यादव ने समर्पण किया था।

समर्पण करने के बाद कुंदन ने पत्रकारों से कहा,

मैं जिन-जिन वारदातों में प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष तौर पर शामिल रहा, उनकी जिम्मेदारी लेता हूं। मैं स्वीकार करता हूं कि मैंने गलतियां कीं और आगे खुद को सुधारने की कोशिश करूंगा।

कुंदन के दो बड़े भाई भी नक्सली हैं, जिनमें से एक ने समर्पण कर दिया, जबकि दूसरे को गिरफ्तार कर लिया गया है।

3_1494764138


कमेंट करें