खेल

'चैंपिंयन ऑफ चैंपियंस' बना टीम इंडिया का हेड कोच, पढ़ें शास्त्री का सफरनामा

सतीश वर्मा, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
113
| जुलाई 12 , 2017 , 13:11 IST | मुंबई

बतौर टीम इंडिया के हेड कोच के लिए आखिरकार रवि शास्त्री  के नाम पर मुहर लग गई। इंडियन क्रिकेट टीम के साथ रवि शास्त्री का नाता काफी पुराना है। वे 2014 में भारतीय क्रिकेट टीम के एक्टिंग डायरेक्टर भी रह चुके हैं। रवि शास्त्री 1981 से 1992 के दौरान टेस्ट मैचों और एकदिवसीय मैचों के लिए भारतीय टीम का हिस्सा रहे। 

Shas 1

एक बेहतर ऑलराउंडर बना अब कोच

रवि शास्त्री ने एक बाएं हाथ के गेंदबाज के रूप में अपना करियर शुरू किया था और बाद में वे ऑलराउंडर के रूप में टीम में कमाल करते रहे। रवि शास्त्री का क्रिकेटिंग स्टाइल हमेशा चर्चा में रहा। खासकर उनका पॉपुलर शॉट्स-पैड्स पर फ्लिक a flick off the pads) के साथ डिफेंसिव स्ट्रोक। लेकिन वे अपने स्ट्राइक रेट को मैच की जरूरत के अनुसार बढ़ा लेते थे। रवि शास्त्री को उनके कद का बहुत फायदा मिला। उनके 6 फीट 3 इंच होने के कारण जहां वे फास्ट बॉलरों के खिलाफ कुछ ही शॉट खेल पाते थे वहीं स्पिन गेंदबाजी के खिलाफ वे बहुत तेज उठाकर शॉट मारते थे।

Shas 3

6 गेंद में 6 छक्का मारने वाला पहला भारतीय बल्लेबाज

शास्त्री मैचों में ओपनिंग करते थे या मिडिल ऑर्डर में आते थे। उनके करियर का खास पल उनके 'चैंपियन ऑफ चैंपियंस' चुने जाने पर था। वे 1985 की वर्ल्ड चैंपियनशिप ऑफ क्रिकेट के लिए ऑस्ट्रेलिया में इस खिताब से नवाजे गए थे। इस दौरान उन्होंने वेस्टइंडीज के गैरी सोबर्स के 1 ओवर में 6 छक्के लगाने के रिकॉर्ड की बराबरी की थी।

Shas 4

कप्तान के तौर पर रवि शास्त्री का करियर

रवि शास्त्री को काफी काबिल कप्तान माना गया, परंतु उनकी बाहर की इमेज ने उनके करियर को नुकसान पहुंचाया। इसके अलावा वे जरूरी मौकों पर फॉर्म खो देते थे। इसके चलते उन्होंने केवल 1 टेस्ट मैच में भारत की कप्तानी की।

बतौर टीम इंडिया के डायरेक्टर शास्त्री का करियर

2014 में इंग्लैंड के टूर से लेकर मार्च, 2016 में हुए टी20 वर्ल्ड कप तक टीम इंडिया के डायरेक्टर रहे। इसी दौरान 2015 वनडे वर्ल्ड कप में टीम इंडिया सेमीफाइनल तक पहुंची।

बतौर टीम इंडिया डायरेक्टर शास्त्री का रिकॉर्ड

फॉर्मेट  मैच  जीते  हारे  ड्रॉ

टेस्ट    8      5    1   1

वनडे   16    7     9   -

टी20  20   14    6    -

 

देखें रवि शास्त्री की यादगार पारी (इंग्लैंड के खिलाफ 187 रन)

 

 

 


कमेंट करें