अभी-अभी

गोरा, मेधावी और संस्कारी संतान चाहते हैं तो RSS की इस शाखा में आइए, जानें पूरा मामला

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
179
| मई 7 , 2017 , 18:48 IST | नयी दिल्ली

अगर आपको श्वेत वर्ण(गोरे रंग का), उत्तम कोटि का संस्कारी बच्चा चाहिए तो आप राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ की ईकाई आरोग्य भारती के बताए आदर्शों का पालन करें। आरएसएस के एक संगठन आरोग्य भारती के गर्भ विज्ञान संस्कार ने यह दावा किया है कि अगर माता-पिता हमारे आदर्शों का पालन करें तो उनका बच्चा गोरे रंग का, लंबा, हठ्ठा-कठ्ठा, संस्कारी और मेधावी होगा।

Baby 1

आरोग्य भारती के गर्भ विज्ञान संस्कार का दावा है कि अगर माता-पिता का तीन महीने का शुद्धिकरण, ग्रहों के मुताबिक संभोग, गर्भवती हो जाने के बाद पूरी तरह से परहेज और प्रक्रियात्मक व सही भोजन का पालन हो तो उनका आने वाला बच्चा गोरे रंग का, मेधावी ही नहीं होगा बल्कि भविष्य में यह बालक उत्तम कोटि का संतान साबित होगा।

Rss

गुजरात में इस प्रोजेक्ट पर हो रहा काम

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की स्वास्थ्य इकाई आरोग्य भारती के गर्भ विज्ञान संस्कार के मुताबिक, एक महिला को उत्तम संताती यानी एक परफेक्ट संतान पाने के लिए इन नियमों का पालन करना होगा।

इस प्रोजेक्ट में काम कर रहे कुछ पदाधिकारियों ने अंग्रेजी अखबार ''द इंडियन एक्सप्रेस' को बताया कि इस प्रोजेक्ट को करीब एक दशक पहले गुजरात में जारी किया गया था, जिसे 2015 में राष्ट्रीय स्तर तक ले जाया गया। वर्तमान में यह प्रोजेक्ट आरएसएस की शिक्षा इकाई विद्या भारती के अंतर्गत आता है और गुजरात व मध्यप्रदेश में इसकी करीब 10 ब्रांच हैं। जल्द ही उत्तर प्रदेश व पश्चिम बंगाल में भी इसकी यूनिट होगी।

इस प्रोजेक्ट के राष्ट्रीय संयोजक डॉक्टर कृष्ण मोहनदास नरवानी ने कहा कि,

उत्तम संतति के जरिए हमारा मुख्य ध्येय समर्थ भारत का निर्माण करना है। हम चाहते हैं कि 2020 तक हजारों की संख्या में ऐसे बच्चे हों

जर्मनी में आयुर्वेद के जरिये पैदा किये जा रहे हैं ऐसे बच्चे

आरएसएस के पदाधिकारियों के मुताबिक यह प्रोजेक्ट जर्मनी से प्रेरित है। उन्होंने दावा किया कि दूसरे विश्व युद्ध के बाद जर्मनी ने आयुर्वेद के जरिए ऐसे कई बच्चे पैदा किए हैं। आरोग्य भारती के राष्ट्रीय संयोजक डॉक्टर हितेश जानी ने कहा कि,

कम शिक्षा या किसी अन्य कारण से अगर किसी माता-पिता का IQ कम भी है तब भी उनके संतान का भविष्य उज्जवल हो सकता है। अगर सही प्रक्रिया का पालन किया जाए तो कम लंबाई और सांवले अभिभावक भी लंबी और सुंदर संतान पा सकते हैं

2020 तक हर राज्य में खोला जाएगा गर्भ विज्ञान अनुसंधान केंद्र 

हितेश जानी काफी समय तक आरएसएस स्वयंसेवक रहे हैं और जामनगर की गुजरात आयुर्वेद यूनिवर्सिटी में पंचकर्मा के हेड भी रहे थे। उन्होंने कहा कि उत्तम संतति पाने की प्रक्रिया हिन्दू शास्त्रों में भी बताई गई है। दावा किया जा रहा है कि इस प्रक्रिया के माध्यम से अब तक 450 संतान जन्म ले चुकी हैं और 2020 तक हर राज्य में एक गर्भ विज्ञान अनुसंधान केंद्र खोला जाएगा।

Baby 2

 


कमेंट करें