राजनीति

नरेश अग्रवाल ने देवी-देवता पर दिया विवादित बयान, संसद में मचा बवाल

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
155
| जुलाई 19 , 2017 , 18:32 IST | नई दिल्ली

राज्यसभा में बुधवार को देश में मॉब लिंचिंग (भीड़ द्वारा हिंसा और हत्या करना) की घटनाओं पर काफी तीखी बहस हुई। इस दौरान समाजवादी पार्टी के सांसद नरेश अग्रवाल ने देवी-देवताओं पर एक आपत्तिजनक बयान दिया। जिसके बाद सत्तापक्ष के सदस्य हंगामा करने लगे। इसके चलते दो बार सदन की कार्यवाही दो बार स्थगित करनी पड़ी।

बयान पर माफी मांगी नरेश अग्रवाल ने

सदन की कार्यवाही शुरू होने पर नरेश अग्रवाल ने कहा कि, अनंत कुमार काफी समझदार हैं। हमारे मंत्री हैं। मैंने जो कहा, वो दीवार पर लिखा था, मैंने कोट नहीं किया। मेरी ये कभी इच्छा नहीं रही कि किसी की भावनाओं को ठेस पहुंचाऊंगा। मैंने आज तक किसी पर व्यक्तिगत आरोप नहीं लगाया। कई बार आरोप लगने के बाद भी मैंने कुछ नहीं कहा। अगर फिर भी किसी की भावनाओं को ठेस पहुंची तो मैं खेद व्यक्त करता हूं। हम भगवान राम को दिल में रखते हैं, उनकी पूजा करते हैं। राम में मेरी आस्था है। लेकिन वो लोग इस बारे में क्या सोचते हैं, ये सबके सामने आ गया।"

इससे पहले रामगोपाल यादव ने कहा कि,

अगर आपके मंत्री ने इस पर माफी मांगी हो तो नरेश अग्रवाल को भी माफी मांगनी चाहिए।

कांग्रेस लीडर आनंद शर्मा ने कहा कि,

जो भी सदन के सदस्य हैं, उनकी आस्था है। नरेश अग्रवाल जी ने अपने शब्दों को वापस ले लिया है। वे हमारे भी देव हैं, केवल आपके ही नहीं हैं। आप ठेकेदार ना बनें

उन्होंने कहा कि इसी सदन के अंदर पिछले साल एक घटना हुई थी। जेएनयू के अंदर आंदोलन चल रहा था, जिसमें एक पैम्पलेट का जिक्र था, जिसमें मां दुर्गा के बारे में आपत्तिजनक चीजें लिखीं थीं। आपकी मंत्री ने वो पैम्पलेट पढ़ा और हमने उनसे माफी मांगने को कहा था, लेकिन उन्होंने माफी नहीं मांगी। ये विषय (मॉब लिंचिंग) गंभीर है, ये उस टिप्पणी से बड़ा है। उसे किसी व्यक्ति पर केंद्रित ना करें।

मॉब लींचिंग के खिलाफ पीएम तक कड़ा संदेश गया- अग्रवाल

नरेश अग्रवाल ने कहा कि,

अगर मेरे बयान से किसी को ठेस पहुंची है तो मैं इस पर खेद जताता हूं। आज पीएम तक ये कड़ा संदेश गया होगा कि लिंचिंग के लिए सख्त कानून बनाना चाहिए और इसे पूरे देश में कहीं भी बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। जब हम पूजा के लिए जाते हैं तो पुजारी हमसे गौदान के लिए कहता है

लिंचिंग बेहद खतरनाक है और इसकी वजह से किसानों का वो व्यपार बर्बाद हो रहा है, जिससे वो अपनी आजीविका चलाते थे। किसान अनप्रोडक्टिव गायों को बेच देते थे और उससे गुजारा करते थे।

कांग्रेस ने कहा-जुनैद को बचाने कोई आगे नहीं आया

झारखंड में लिंचिंग की घटनाएं हुईं। रामगढ़ में पुलिस ने बीजेपी मीडिया सेल के नित्यानंद महतो को और छोटू राम को अरेस्ट किया, जो एक वायरल वीडियो में अलीमुद्दीन अंसारी को पीटते हुए दिखाई दे रहे हैं। बल्लभगढ़ में जुनैद की भीड़ द्वारा हत्या कर दी गई, लेकिन कोई बचाने नहीं आया। न्यूयॉर्क टाइम्स में एक घटना का जिक्र किया गया, जिसमें दो मुस्लिम लड़कियों को ट्रेन में एक क्रिश्चियन आदमी परेशान कर रहा था और अटैक होने के बावजूद भीड़ ने उन लड़कियों को बचाया।

लिंचिंग में RSS और बीजेपी का हाथ-कांग्रेस

आजाद ने कहा, "पहले भी लिंचिंग होती थी तो एक शख्स ऐसा करता था। लेकिन, इस वक्त जो लिंचिंग की घटनाएं हो रही हैं, उनमें संघ परिवार या रूलिंग पार्टी का कोई ना कोई पार्टी कार्यकर्ता शामिल रहता है। मुझे शक है कि ये अंडरस्टैंडिंग से हो रहा है। हम स्टेटमेंट देंगे, तुम्हें जो करना हो करते रहो। अगर ये अंडरस्टैंडिंग नहीं होती तो कोई क्यों नहीं पकड़ा जाता है?

बाहर बोले होते तो केस हो जाता- जेटली

अरुण जेटली ने नरेश अग्रवाल के बयान पर कहा, "एसपी सांसद ने शराब के ब्रांड से देवी-देवताओं का नाम जोड़ा। कोई इस बयान की गंभीरता को नहीं समझ रहा है। अगर उन्होंने (नरेश अग्रवाल) ने ये बयान सदन के बाहर दिया होता तो उन पर केस कर दिया जाता।"


कमेंट करें