नेशनल

सुप्रीम कोर्ट की सरकार को फटकार, पुराने नोट पर दिया नया आदेश

सतीश वर्मा, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
164
| जुलाई 4 , 2017 , 13:46 IST | नई दिल्ली

अगर आप किसी वाजिब कारण से 30 जून तक 500 और 1,000 रुपये के पुराने नोट बैंक में जमा नहीं करा पाए तो आपको पुराने 500 और 1000 के नोट बदलने का एक और मौका मिल सकता है। सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार और RBI को फटकार लगाते पूछा है कि जो लोग उचित कारणों के चलते रुपये बैंक में जमा नहीं करा पाए, उनकी संपत्ति सरकार इस तरह नहीं छीन सकती है। कोर्ट ने सरकार को कहा है कि जो लोग नोटबंदी के समय तय वक्त पर पुराने नोट जमा नहीं कर पाएं , उनके लिए सरकार कोई विंडों क्यों नहीं खोली जा सकती है।

अगर कोई उस वक्त में जेल में रहा होगा!

एक महिला की याचिका पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार से कहा कि अगर उचित कारण वाले लोगों को एक और मौका नहीं दिया जाता है तो इसे गंभीर मुद्दा माना जाएगा। देश की सर्वोच्च अदालत ने सवाल किया कि अगर रुपये जमा कराने की अवधि में अगर कोई जेल में रहा होगा, तो वो रुपये कैसे जमा कराता? कोर्ट ने कहा कि ऐसे हालात को समझते हुए सरकार को चाहिए कि ऐसे लोगों के लिए कोई ना कोई विंडो जरूर दे।

जो लोग उचित कारणों से पुराने नोट बैंक में जमा नहीं करा पाए, उनकी संपत्ति सरकार नहीं छीन सकती। ऐसे लोगों को एक मौका दिया जाना चाहिए-सुप्रीम कोर्ट

सरकार ने कोर्ट से मांगा दो हफ्ते का वक्त

सुप्रीम कोर्ट की इन टिप्पणियों पर केंद्र सरकार ने जवाब देने के लिए दो हफ्ते का वक्त मांगा। सुप्रीम कोर्ट एक महिला की याचिका पर सुनवाई कर रहा है जिसमें उसने कहा था कि, वो नोटबंदी के वक्त अस्पताल में थी और उसने बच्चे को जन्म दिया था, इस वजह से से तय समय-सीमा पर पुराने नोट जमा नहीं कर सकी।

Note 2

इससे पहले 21 मार्च को कोर्ट कहा था कि जिन लोगों ने 30 दिसंबर तक पुराने नोट जमा नहीं कराये, उनको एक विंडो देना चाहिए। गौरतलब है कि सरकार ने 8 नवंबर से 30 दिसंबर तक ही पुराने नोट जमा कराने का मौका दिया था।


कमेंट करें