नेशनल

श्री श्री रविशंकर की अयोध्या यात्रा से संत समाज नाराज, कहा- क्रेडिट लूटने आ रहे हैं

सतीश वर्मा, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
114
| नवंबर 14 , 2017 , 19:04 IST | अयोध्या

श्री श्री रविशंकर की अयोध्या यात्रा को लेकर अयोध्या का संत समाज गुस्से में है। दिगंबर अखाड़े के महंत सुरेश दास ने कहा कि संत समाज विवाद के हल के नज़दीक है और ऐसे में श्री श्री क्रेडिट लूटने आ रहे हैं। उन्होंने कहा कि भक्त के रूप में उनका स्वागत है लेकिन मंदिर से उनका कोई लेना देना नहीं है।

Akhara 1

सुरेश दास ने कहा मंदिर का हल सिर्फ एक ही है

उन्होंने कहा कि मस्जिद 14 कोसी परिक्रमा क्षेत्र के बाहर यानी कि अयोध्या के बाहर बने। अयोध्या में मस्जिद के लिए कोई जगह नहीं है। उन्होंने कहा कि मस्जिद लखनऊ में बनाए, अयोध्या में नहीं। उधर, निर्वाणी अखाड़ा के महंत ने भी श्री श्री की मध्यस्तथा का विरोध किया और कहा मस्जिद अमेरिका में बनेगा, अयोध्या में नहीं।

Ng

महंत नरेंद्र गिरी ने भी रविशंकर की आलोचना की है

हनुमान गढ़ी के पुजारी राजू दास ने कहा कि श्री श्री रविशंकर बनिया है, राम जी को बेचने आ रहा है, हम उसका विरोध करेंगे और मंदिर का निर्माण अब ज्यादा दूर नहीं है। बता दें कि इससे पहले अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि ने रविशंकर को निशाने पर लेते हुए कहा था कि वो संत नहीं हैं जो उनकी बात को मान ही लिया जाए। राम मंदिर बनवाना रविशंकर के बस की बात नहीं है। रविशंकर ने बातचीत से मुद्दा सुलझाने पर जोर दिया।

Rs

इससे पहले रविवार को राम मंदिर मुद्दे पर रविवार को अखाड़ा परिषद और शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी के बीच मीटिंग हुई थी। इसमें दोनों पक्षों के बीच सहमति देखी गई। वसीम रिजवी ने कहा था कि राम जन्मभूमि मंदिर का निर्माण अब जल्द होने वाला है। 5 दिसंबर के पहले मंदिर के पक्ष में हल जरूर निकलेगा। इसके लिए 15 नवंबर को दिल्ली में पक्षकारों के साथ बैठक कर सुप्रीम कोर्ट के अधिवक्ताओं द्वारा ड्राफ्ट तैयार कर कोर्ट में पेश किया जाएगा।

सुप्रीम कोर्ट में दाखिल करेंगे समझौता

वहीं अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि ने दावा किया कि अयोध्या राम जन्म भूमि पर मंदिर निर्माण की सभी बाधाएं दूर हो चुकी हैं। शिया वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष वसीम रिजवी के साथ हुई बैठक के बाद कहा कि दोनों पक्ष मंदिर निर्माण पर सहमत सुप्रीम कोर्ट में समझौता दाखिल करेंगे। वहीं सुन्नी वक्फ बोर्ड की नाराजगी पर गिरी ने कहा कि सुन्नी बोर्ड से भी होगी बात लेकिन उनका दावा कमजोर है।

 

 

 

 


कमेंट करें