ख़ास रिपोर्ट

क्रूर और बर्बर किम जोंग उन के 6 साल, कितना बदला नॉर्थ कोरिया?

सतीश वर्मा, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
138
| नवंबर 12 , 2017 , 13:36 IST | प्योनयोंग

छह साल हो गए हैं जब उत्तर कोरिया में किम जोंग उन ने अपने पिता की मौत के बाद सत्ता संभाली थी। इन छह सालों में क्या क्या बदला, आइए डालते हैं एक नज़र।

Kim 1

किम परिवार की सत्ता

उत्तर कोरिया पर पिछले सात दशकों से किम परिवार का ही शासन है। 1948 से लेकर 1994 तक देश की सत्ता किम जोंग उन के दादा किम इल सुंग के हाथ में रही जबकि उनके पिता ने किम जोंग इल 1997 से 2011 तक उत्तर कोरिया के नेता रहे।

Kim 2

शख्सियत

किम जोंग उन कई मायनों अपने पिता से ज्यादा अपने दादा की तरह दिखते हैं। बालों का अंदाज भी उन्होंने अपने दादा के जैसा ही अपनाया है। किम जोंग इल शायद ही कभी सार्वजनिक रूप से बोले हों, लेकिन किम जोंग उन कई बार सार्वजनिक तौर पर अपनी बात रख चुके हैं। मई में पार्टी कांग्रेस में वह लगातार चार घंटे बोले।

Kim 3

बर्बर और क्रूर

किम जोंग उन ने अपने फूफा को मौत की सजा देकर साबित करने की कोशिश की कि वह स्वतंत्र हैं और उन्हीं तरीकों का इस्तेमाल करने में उन्हें कोई समस्या नहीं है जो उनके पिता और दादा करते रहे हैं। अमेरिका की धमकी और यूएन के बैन को दरकिनार करते हुए किम जोंग उन लगातार न्यूक्लियर टेस्ट कर रहा है औऱ हाइड्रोजन बम की भी परीक्षण कर चुका है।

Kim 4

अभी तक नहीं किया कोई विदेश दौरा

अमेरिकी बॉलीवॉल एसोशिएशन एनबीए के स्टार खिलाड़ी डेनिस रोडमैन से कुछ समय के लिए उनकी दोस्ती हुई। लेकिन अभी तक उन्होंने कोई विदेश दौरा नहीं किया है।

Kim 5

परमाणु हथियार

किम जोंग उन के छह साल के दौरान उत्तर कोरिया ने आधा दर्जन बार से ज्यादा परमाणु परीक्षण किए। उत्तर कोरिया ने अपने पास हाइड्रोजन बम होने का दावा भी किया। किम जोन उन का उत्तर कोरिया आधुनिक परमाणु हथियार और मिसाइल टेक्नोलजी की दिशा में आगे तेजी से बढ़ रहा है ताकि वह दक्षिण कोरिया, जापान और वहां तैनात 50 हजार सैनिकों को निशाना बना सके।

Kim 6

अंतरिक्ष में छलांग

उत्तर कोरिया अंतरिक्ष शोध की रेस में भी शामिल हो गया है। वह अपने उपग्रह अंतरिक्ष में भेज रहा है और अगले दशक में उसका इरादा चांद तक पहुंच जाने का है।

बदलती प्राथमिकता

किम जोंग इल के शासन में उत्तर कोरिया की प्राथमिकता थी “सेना सबसे पहले”। लेकिन किम जोंग उन के दौर में प्राथमिकता बेहतर परमाणु हथियार बनाने और देश की अर्थव्यवस्था को मजबूत करने पर है। वे साइंस और टेक्नोलजी पार्क विकसित कर रहे हैं।

Kim7

“वफादारी अभियान”

यह बात पहले से मानी जाती है कि उत्तर कोरिया के पास परमाणु हथियार हैं। उसकी अर्थव्यवस्था की हालत जाहिर तौर पर खराब है लेकिन उनमें बेहतरी के कुछ संकेत दिख रहे है। किम जोंग उन ने “वफादारी अभियानों” के जरिए लोगों से पार्टटाइम करने को कहा है ताकि देश को बेहतर बनाया जा सके।

Kim8

आमदनी के नए स्रोत

किम जोंग उन ने वक्त की जरूरत को देखते हुए पूंजीवादी शैली के बाजारों और उद्यमशीलता को बढ़ावा दिया है और घरेलू अर्थव्यवस्था को मजबूत किया जा रहा है। देश को राजस्व दिलाने के नए स्रोत तैयार किए जा रहे हैं।

संपन्नता के ‘साइड इफेक्ट’

इसका असर देश की राजधानी प्योंगयांग पर दिखता है। जहां टैक्सी से लेकर कॉफी शॉप और स्ट्रीट स्टॉल बढ़े हैं. लेकिन इसके कारण पैदा हो रहा मध्य वर्ग किम के लिए समस्या भी बन सकता है क्योंकि यह वर्ग पूंजीवादी विचारों के लिए ज्यादा खुला है या कहें कि उसमें धन हासिल करने की लालसा है।

मनोरंजन का ख्याल

किम जोंग उन ने कई बार उत्तर कोरिया को “अधिक सभ्य” राष्ट्र बनाने की बात कही है। उन्होंने राजधानी प्योंगयांग में घुड़सवारी सेंटर और एक शानदार वॉटर पार्क तैयार कराया है। यही नहीं, पूर्वी तट पर वोनसान शहर में एक लग्जरी स्की रिसॉर्ट भी बनवाया गया है।

Kim9

“बॉय जनरल”

किम ने डिज्नी की क्वॉलिटी की एक एनिमेशन सिरीज “बॉय जनरल” भी तैयार कराई है, जो उत्तर कोरिया में बहुत हिट रही है। हालांकि इसका आदेश उनके पिता ने दिया था।

खेलों में दम

किम जोंग उन उत्तर कोरिया को खेलों की दुनिया की एक ताकत बनाना चाहते हैं। यह देश के स्वास्थ्य और राष्ट्रीय गर्व से भी जुड़ा है। बड़े आयोजनों में उत्तर कोरिया ने कई पदक भी जीते हैं।

(फोटो साभार: एपी/एके/रॉयटर्स)

 

 

 

 

 

 

 

 

 


कमेंट करें