बिज़नेस

डील फाइनल: Flipkart का हो जाएगा स्नैपडीलl! मर्जर को मिली मंजूरी

सतीश वर्मा, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
442
| जुलाई 26 , 2017 , 14:19 IST

यह अब तय माना जा रहा है कि ऑनलाइन ई-कॉमर्स कंपनी स्नैपडील अब फ्लिपकार्ट का हो जाएगा। स्नैपडील के निदेशक बोर्ड ने फ्लिपकार्ट के उस ऑफर को अपनी मंजूरी दे दी है, जिसके मुताबिक कंपनी ने नया वैल्युएशन ऑफर दिया था। दरअसल स्नैपडील कंपनी फ्लिपकार्ट के नए ऑफऱ 90-95 करोड़ यूएस डॉलर को मंजूर कर लिया है।
न्यूज एजेसी रायटर्स के मुताबिक अब दोनों कंपनियों के मर्जर होने का रास्ता लगभग साफ हो गया है।

पहले Snapdeal ने ठुकराया था ऑफर

इससे पहले फ्लिपकार्ट को स्नैपडील ने झटका दे दिया है। स्नैपडील ने फ्लिपकार्ट के उस ऑफर को ठुकराया दिया है, जिसमें उसे खरीदने के लिए फ्लिपकार्ट ने 5500 करोड़ रुपये की पेशकश की थी। स्नैपडील के बोर्ड को लगता था कि फ्लिपकार्ट उसका वैल्युएशन कम लगा रही है। हालांकि सूत्रों के मुताबिक दोनों कंपनियों में बातचीत बिल्कुल बंद नहीं हुई थी।

Fs 1

सॉफ्टबैंक ने दूसरी निवेश करने वाली कंपनी को भी दी हरी झंडी

इस मर्जर को सॉफ्टबैंक ने स्नैपडील में निवेश करने वाली दूसरी बड़ी कंपनी नेक्सस वेंचर्स पार्टनर (एनवीपी) ने अपनी हरी झंडी दे दी है। सॉफ्टबैंक ने कहा कि,
दोनों निवेशक कंपनियां इस बात पर राजी हो गई कि स्नैपडील को बेच दिया जाए। दोनों कंपनियां फ्लिपकार्ट के साथ इस हफ्ते के भीतर टर्म शीट पर अपने दस्तखत करेंगी, जिसके बाद इसके अधार पर स्नेपडील को अधिग्रहण की कार्रवाई शुरू होगी।

Snapdeal के फाउंडर को मिलेंगे 2.5 करोड़ डॉलर

डील के मुताबिक स्नैपडील के प्रत्येक फाउंडर को 2.5 करोड़ डॉलर मिलेंगे, वहीं नेक्सस को 10 करोड़ और कालारी को 7-8 करोड़ डॉलर मिलने की संभावना है। स्नैपडील का फरवरी 2016 में जो मूल्यांकन किया गया था, उसके मुताबिक कंपनी की कुल वैल्यूएशन 650 करोड़ डॉलर आंकी गई थी। अब इसकी वैल्यूएशन करीब 100 करोड़ डॉलर है।

Snapdeal

इससे पहले सॉफ्टबैंक ने कहा था कि पिछले वित्त वर्ष में उसे स्नैपडील के निवेश में 100 करोड़ डॉलर का नुकसान उठाना पड़ा था। अभी सॉफ्टबैंक के पास कंपनी में 30 फीसदी की हिस्सेदारी है। वहीं नेक्सस 10 फीसदी और कालारी के पास 8 फिसदी हिस्सेदारी है।

 

 


कमेंट करें