नेशनल

रेप केस में CBI कोर्ट ने राम रहीम को सुनाई 10 साल की सजा

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 1
400
| अगस्त 28 , 2017 , 15:42 IST | चंडीगढ़

बलात्कार मामले में डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह को सीबीआई की स्पेशल कोर्ट ने दोषी करार दिया है। जिसके बाद उन्हें 10 साल की सजा सुनाई गई है। बता दें कि जिस वक्त वकील दलीलें दे रहा था उस दौरान राम रहीम रो पड़े। कोर्ट ने आईपीसी की धारा 376, 511, 506 के तहत 10 साल की सजा सुनाई।

राम रहीम का मेडिकल किया जा रहा है। इसके बाद उन्हें जेल ले जाएंगे। वहां उन्हें आम कैदियों की तरह ट्रीट किया जाएगा।

राम रहीम ने जज से माफी मांगी है। बता दें कि दोषी राम रहीम के लिए अभियोजन पक्ष अधिक-से-अधिक सजा की मांग कर रही है। स्पेशल सीबीआई कोर्ट के जज जगदीश सिंह ने दोनों पक्षों को 10-10 मिनट का वक्त बहस लिए दिया है। इस केस की संजीदगी को देखते हुए सिरसा और रोहतक में कर्फ्यू जारी है।

बचाव पक्ष ने कोर्ट में कहा कि राम रहीम समाज सेवी हैं। उन्होंने जन कल्याण के बहुत कार्य किए हैं। इसका संज्ञान लेते हुए नरमी बरती जाए। राम रहीम ने अपने पक्ष में सफाई अभियान और रक्त दान जैसे अभियानों का जिक्र किया। इसके साथ ही वो जज के सामने भावुक हो गए।

Panchkula-21

उच्च न्यायालय ने हरियाणा सरकार को निर्देश दिया है कि वह सीबीआई अदालत के न्यायाधीश जगदीप सिंह और उनके दो कर्मचारी सदस्यों की रोहतक के लिए सोमवार को हवाई यात्रा की व्यवस्था करे। हरियाणा पुलिस ने शनिवार को कहा था कि हिरासत में रखे गए धर्मगुरु को सजा की सुनवाई के लिए पंचकूला नहीं लाया जाएगा।

यह कदम डेरा प्रमुख पर दुष्कर्म के दो मामलों में आरोप साबित होने के बाद डेरा समर्थकों द्वारा शुक्रवार को की गई बड़े पैमाने पर हिंसा के बाद उठाया गया है। सीबीआई अदालत के न्यायाधीश जगदीप सिंह ने डेरा प्रमुख द्वारा दो महिला अनुयायियों के साथ दुष्कर्म मामले में दोषी ठहराते हुए कहा कि 50 वर्षीय धर्मगुरु को 28 अगस्त को सजा सुनाई जाएगी।

राम रहीम को हरियाणा सरकार द्वारा शुक्रवार शाम को हेलीकॉप्टर से रोहतक ले जाया गया। उसे रोहतक से 10 किलोमीटर दूर स्थित सुनारिया जेल में रखा गया है। हरियाणा के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) बी. एस. संधू ने यहां शनिवार को मीडिया को बताया कि डेरा प्रमुख को सुरक्षा कारणों से पंचकूला अदालत में नहीं लाया जाएगा।

3339582 (1)

पंचकूला शहर में जहां सीबीआई अदालत ने फैसले की घोषणा की थी, शुक्रवार को हजारो डेरा समर्थकों ने उत्पात मचाया और हिंसा की, जिसमें 36 लोग मारे गए, सैंकड़ों घायल हुए और करोड़ों की संपत्तियों को नुकसान पहुंचाया गया और आग लगा दी गई।


कमेंट करें