मनोरंजन

नवाजुद्दीन सिद्दीकी को ED का समन, बेहिसाब आय से संबंधित है मामला

आरती यादव, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
120
| अक्टूबर 5 , 2017 , 11:25 IST | मुंबई

लाखों निवेशकों के साथ करोड़ों रुपये की जालसाजी करने वाली नोएडा की कंपनी वेब वक्र्स के ऑनलाइन पोर्टल एडबुक्स डॉट कॉम का प्रमोशन करने वाले बॉलीवुड के मशहूर एक्टर नवाजुद्दीन सिद्दीकी पर कानून का शिकंजा कसने के आसार बढ़ गये हैं।

दरअसल वेबवक्र्स से 1.15 करोड़ रुपये लेकर कंपनी का प्रमोशन करना उनके लिए मुसीबत का सबब बन गया है। ईडी ने नवाजुद्दीन को पूछताछ के लिए तलब किया था लेकिन, वह नहीं आए। उनके वकील ने भी ईडी से संपर्क नहीं साधा। अब ईडी उन्हें दोबारा नोटिस देने की तैयारी में है। इसके लिए ज्वाइंट डायरेक्टर से अनुमति लेकर उनके मुंबई के पते पर दोबारा नोटिस भेजा जाएगा।

घर पर रिसीव हुआ था नोटिस

ईडी के सूत्रों की मानें तो नवाजुद्दीन सिद्दीकी को उनके मुंबई के वर्सोवा के पते पर स्पीड पोस्ट से भेजा गया था जो रिसीव भी हुआ था। इसके बावजूद नवाजुद्दीन या उनके किसी वकील का आज ईडी से संपर्क न करना उनकी मुश्किलों को बढ़ा सकता है। ईडी उन्हें दोबारा नोटिस देकर फिर तलब करेगी। इसके बावजूद यदि वह जांच एजेंसी के सामने पेश नहीं होते हैं तो उन्हें आरोपितों की फेहरिस्त में शामिल किया जा सकता है। वहीं दूसरी ओर कानून के शिकंजे से बचने के लिए उन्हें वेबवक्र्स से ली गयी रकम को वापस करना होगा अन्यथा उनके खिलाफ प्रिवेंशन ऑफ मनी लांड्रिंग एक्ट में केस दर्ज हो सकता है।

1500027275 

नहीं किया था कोई एग्रीमेंट

दरअसल, नोएडा में एब्लेज इंफो सॉल्यूशंस के नाम से कंपनी खोलकर करीब 3,700 करोड़ रुपये की ठगी करने वाले अनुभव मित्तल के नक्शेकदम पर चलते हुए अनुराग गर्ग और संदेश वर्मा ने वेब वक्र्स के नाम से नई कंपनी खोली और निवेशकों से करीब 245 करोड़ रुपये जमा करा लिए। इसके बाद उन्होंने एडबुक्स डॉट कॉम के नाम से ऑनलाइन पोर्टल शुरू किया और नवाजुद्दीन सिद्दीकी से इसका प्रमोशन कराया। इसके एवज में नवाजुद्दीन को 1.15 करोड रुपये का भुगतान बिना किसी एग्रीमेंट के किया गया। यह पैसा आम निवेशकों का होने की वजह से उनसे यह वसूली की जानी है।


कमेंट करें

अभी अभी