नेशनल

सुलझ जाएगी सुनंदा की मौत की गुत्थी? दिल्ली हाईकोर्ट ने 3 दिन में मांगी स्टेट्स रिपोर्ट

श्वेता बाजपेई, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
244
| जुलाई 20 , 2017 , 15:14 IST | नई दिल्ली

हाई कोर्ट ने गुरुवार को दिल्ली पुलिस को निर्देश दिया कि वह कांग्रेस सांसद शशि थरूर की पत्नी सुनंदा पुष्कर की मौत के मामले में तीन दिन के अंदर स्टेटस रिपोर्ट दाखिल करे। कोर्ट ने दिल्ली पुलिस से यह भी जानना चाहा कि उसने बीते साढ़े 3 साल में इस मामले क्या किया है? अब इस मामले में अगली सुनवाई 1 अगस्त को होगी।

न्यायमूर्ति जी एस सिस्तानी और न्यायमूर्ति चंद्र शेखर की पीठ ने पुलिस को निर्देश दिया कि वह इस मामले की जांच अदालत की निगरानी में सीबीआई के नेतृत्व वाली एसआईटी जांच से करवाने संबंधी सुब्रमण्यम स्वामी की याचिका पर सुनवायी के दौरान तीन दिन के अंदर अपनी रिपोर्ट दायर करे।

यह निर्देश इसलिए जारी किया गया है क्योंकि दिल्ली पुलिस के स्थायी वकील राहुल मेहरा ने अदालत को सूचित किया कि जांच एजेंसी की स्थिति रिपोर्ट उन्हें अदालत कक्ष में ही दी गई है, इसलिए वह इसे रिकॉर्ड में रखने से पहले पूरा पढ़ना चाहते हैं। मेहरा ने अदालत को यह भी बताया कि इस मामले में एसआईटी का गठन हो गया है।

उन्होंने कहा कि बीजेपी नेता की याचिका ने मामले की जांच कर रही पुलिस के खिलाफ गंभीर आरोप लगाए हैं, इसलिए एजेंसी को अपनी बात रखने के लिए समय दिया जाना चाहिए।

हाईकोर्ट ने पिछली सुनवाई में मामले की जांच कोर्ट की निगरानी में विशेष जांच दल से कराने की मांग करने वाली भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी की याचिका पर को संज्ञान लिया था।

वहीं, भाजपा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने सुनवाई के बाद बातचीत में कहा कि दिल्ली पुलिस का कहना है कि अगर कोर्ट सीबीआइ जांच का निर्देश देता है तो हमें कोई एतराज नहीं है।

पिछली बार सुनवाई के दौरान याचिकाकर्ता सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा था कि ये जनहित से जुड़ा मामला है, क्योंकि अपनी मौत से पहले सुनंदा आईपीएल में हुई गड़बड़ियों के बारे में खुलासा करने वाली थी।

स्वामी की याचिका में कहा गया है कि इस मामले में अभी तक किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है। मौत की वजह जहर को बताया गया है।

पिछली बार सुनवाई के दौरान याचिकाकर्ता सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा था कि ये जनहित से जुड़ा मामला है, क्योंकि अपनी मौत से पहले सुनंदा आईपीएल में हुई गड़बड़ियों के बारे में खुलासा करने वाली थी।

स्वामी की याचिका में कहा गया है कि इस मामले में अभी तक किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है। मौत की वजह जहर को बताया गया है।

याचिका में कहा गया है कि इस घटना के तीन साल बीतने के बावजूद अभी तक कोई आरोप पत्र दाखिल नहीं किया गया है। घटना के नौ महीने बाद भी सिर्फ शशि थरूर के बयान दर्ज किए गए हैं।

इस घटना में बड़ी राजनीतिक हस्तियों की संलिप्तता है, जिसकी वजह से पुलिस कारगर तरीके से काम नहीं कर रही है।

क्या था मामला?

आपको बता दें कि शशि थरूर की तीसरी पत्नी सुनंदा पुष्कर (52) 17 जनवरी, 2014 को दक्षिणी दिल्ली के एक पांच सितारा होटल में संदिग्ध हालत में मृत पाई गई थीं। उनकी मौत के दौरान शशि थरूर केंद्रीय मानव संसाधन विकास राज्य मंत्री थे।


कमेंट करें