नेशनल

धूलभरी आंधी ने हिला दिया ताजमहल, मीनारों के दरवाजे टूटे

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1059
| मई 5 , 2018 , 12:52 IST

आंधी-तूफान के कहर ने उत्तर भारत के कई हिस्सों को प्रभावित किया है, जिसकी चपेट में लोग ही नहीं स्मारक भी आए हैं। देश के उत्तरी इलाके में बुधवार रात आए तूफान से ताजमहल को बड़ा नुकसान हुआ है। एएसआई के सूत्रों के अनुसार ताज की दो मीनारों में कंपन हुआ। एक की खिड़की का पल्ला टूट गया।

 इंजीनियर के हत्यारे को उम्रक़ैद (2)

आगरा के इतिहासकार ने बताया कि पहली बार कुदरती कहर से ताज के मुख्य ढांचे को नुकसान पहुंचा है और ये करीब 368 साल बाद हुआ है। ताज की मीनारें बाहर की ओर झुकी हैं, ताकि भूकंप से अगर कभी मीनार गिरे तो बाहर की ओर गिरे और गुंबद को नुकसान न हो। तूफान से मीनार के ऊपरी हिस्से की खिड़की उखड़ी। पर ज्यादा नुकसान नहीं हुआ। वजह हवा का रुख मीनार की ओर था।

फतेहपुर सीकरी के किले को भी हुआ नुकसान 

ताज के अलावा फतेहपुर सीकरी के ऐतिहासिक स्मारक भी नुकसान से बच नहीं पाए हैं। फतेहपुर सीकरी में स्थित सलीम चिश्ती के बादशाही दरवाजे के बरामदे का छज्जा टूट कर गिर गया। साथ ही जनाना रोजा की दो बुर्जियों के छज्जे भी टूटे हैं। साल 2015 में भी भंयकर तूफान आया था, लेकिन स्मारकों को नुकसान नहीं पहुंचा था।

सीएम योगी चुनाव प्रचार करने 6 दिन के लिए कर्नाटक गए थे। आंधी के बाद कर्नाटक सीएम ने ट्वीट किया- ‘यूपी के लोगो माफ करिए। अापके सीएम कर्नाटक में व्यस्त हैं। जल्द लौटेंगे।’ अब योगी लौट रहे हैं। शनिवार को आगरा जाएंगे।

 

विश्व धरोहर है ताजमहल 

ताजमहल आगरा शहर में स्थित एक विश्व धरोहर मक़बरा है। इसका निर्माण मुग़ल सम्राट शाहजहाँ ने, अपनी पत्नी मुमताज़ महल की याद में करवाया था। ताजमहल मुग़ल वास्तुकला का उत्कृष्ट नमूना है। इसकी वास्तु शैली फ़ारसी, तुर्क, भारतीय और इस्लामी वास्तुकला के घटकों का अनोखा सम्मिलन है। सन् १९८३ में, ताजमहल युनेस्को विश्व धरोहर स्थल बना।  ताजमहल को भारत की इस्लामी कला का रत्न भी घोषित किया गया है। साधारणतया देखे गये संगमर्मर की सिल्लियों की बडी- बडी पर्तो से ढंक कर बनाई गई इमारतों की तरह न बनाकर इसका सफेद गुम्बद एवं टाइल आकार में संगमर्मर से ढंका है। केन्द्र में बना मकबरा अपनी वास्तु श्रेष्ठता में सौन्दर्य के संयोजन का परिचय देते हैं। ताजमहल इमारत समूह की संरचना की खास बात है, कि यह पूर्णतया सममितीय है। इसका निर्माण सन् १६४८ के लगभग पूरा हुआ था।


कमेंट करें