नेशनल

देश में किसान मर रहे हैं लेकिन विधायकों ने अपनी सैलरी 100 फीसदी बढ़ा ली!

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
119
| जुलाई 19 , 2017 , 18:01 IST | चेन्नई

एक तरफ तमिलनाडु के किसान अपनी मांगों को लेकर कई महीने से दिल्ली में प्रदर्शन कर रहे हैं वहीं तमिलनाडु के विधायकों ने अपनी सैलरी बढ़ाने का प्रस्ताव पास दिया है वो भी दोगुनी। तमिलनाडु में विधायकों की सैलरी अब 50 हजार से बढ़ाकर 1.05 लाख रुपये कर दी गई है। यही नहीं विधायकों को मिलने वाली पेंशन में भी इजाफा कर दिया गया है। अब विधायकों की 12000 रुपये की जगह पर 20000 रुपये पेंशन में मिलेगी।

विधायकों के चुनाव क्षेत्र में खर्च किए जाने वाले भत्ते को भी 2 करोड़ से बढ़ाकर 2.5 करोड़ रुपए कर दिया गया है। इस फैसले की घोषणा मुख्यमंत्री इदाप्पदी पलानीसामी ने बुधवार को तमिलनाडु की विधानसभा में की। यह फैसला उस वक्त लिया गया है जब तमिलनाडु के किसान अपने ऋण को माफ कराने के लिए दिल्ली में प्रदर्शन कर रहे हैं।

Tamil-nadu-farmers-protest-in-new-delhi-1

बीते कुछ महीनो से देश भर के किसान अपने कर्ज को माफ कराने के लिए राज्य सरकारों और केंद्र सरकार के आगे अपनी मांग रख रहे हैं। आपको बता दें कि बीते दो सालों में सूखे के कारण किसानो को भारी घाटा झेलना पड़ा था और इस साल भी अभी तक पर्याप्त मात्रा में बारिश नहीं हुई है, जिसके चलते किसानों को नुकसान का सामना करना पड़ रहा है।

इधर, संसद में भी कुछ इसी तरह की मांग सांसदों ने की है। राज्यसभा में समाजवादी पार्टी के सांसद नरेश अग्रवाल और कांग्रेस सांसद आनंद शर्मा ने सांसदों का वेतन बढ़ाने का मुद्दा उठाया। पूर्व केंद्रीय मंत्री आनंद शर्मा ने कहा कि दुनियाभर के देशों में सबसे कम तनख्वाह भारत के सांसद ही लेते हैं। आनंद शर्मा ने यह बात उस वक्त कही जब सदन में किसानों के मुद्दे पर बहस शुरू होनेवाली थी। इसके बाद किसानों के मुद्दे पर सदन में हंगामा होने लगा।

WhatsApp_Image_2017-04-04_at_11

बाद में संवाददाताओं को नरेश अग्रवाल ने बताया कि जब पत्रकार और न्यायपालिका के लोग बेहतर सैलरी और सुविधाओं की मांग करना बंद कर देंगे तो हमलोग भी ऐसी मांग नहीं उठाएंगे। उन्होंने पूछा कि जब हमलोग वेतन बढ़ोत्तरी की मांग करते हैं तो इसमें दिक्कत क्या है? उन्होंने कहा कि सांसद ऐसी मांग क्यों नहीं कर सकता जब इसी देश में जज कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि हमने वही मांगा जिसके हकदार हम सातवें वेतन आयोग के हिसाब से हैं।


कमेंट करें