खेल

नस्लवाद से भड़क उठा ये भारतीय क्रिकेटर, कहा- हैंडसम सिर्फ गोरे ही नहीं होते

अनुराग गुप्ता, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
853
| अगस्त 10 , 2017 , 14:54 IST | नई दिल्ली

टींम इंडिया के ओपनिंग बल्लेबाज अभिनव मुकुंद ने एक ऐसा ट्वीट किया, जिसके बाद वो सुर्खियों में नजर आने लगे। बता दें कि अक्सर ही लोग नस्लवाद का शिकार हो जाते है। ऐसे में अभिनव ने अपनी आवाज बुलंद करते हुए कहा कि सिर्फ गोरे दिखने वाले ही प्यारे या खूबसूरत नहीं होते। खेल जगत में हमेशा से नस्लवाद हावी रहा, जिसने कई खिलाड़ियों पर नकारात्मक प्रभाव डाला है।

Abhinav-Mukund

खेल जगत में नस्लवाद या इससे जुड़े कई उदाहरण देखने को मिल चुके है और खिलाड़ी इसकी कड़ी आलोचना करते रहे है। अभिनव मुकुंद ने एक भावुक ट्वीट करते हुए लिखा कि, मैं 10 साल की उम्र से क्रिकेट खेल रहा हूं और मैंने धीरे-धीरे सफलता की ऊंचाई छुईं और वहां पहुंचा जहां मैं आज हूं। उच्च स्तर पर देश के लिए खेलना एक गर्व की बात है।

उन्होंने आगे कहा कि, मैं आज किसी की सहानुभूति और ध्यान खींचने के लिए नहीं ऐसा नहीं लिख रहा हूं बल्कि इस उम्मीद से लिख रहा हूं कि नस्लवाद के मुद्दे पर लोगों की सोच बदल पाऊं, जिसके बारे में मैं सबसे ज्यादा सोचता हूं।

मुकुंद ने कहा कि, मेरे रंग को लेकर मुझ पर कई तरह के ताने कसे गए, बचपन से ही मुझे इसका कारण समझ नहीं आया। पर आज मैं सिर्फ इतना कहना चाहूंगा कि सिर्फ गोरा होना आपकी खूबसूरती का प्रमाण नहीं। आप जैसे हैं खुद से वैसे ही प्यार करे।

बता दें कि मुकुंद के रंग को लेकर सोशल मीडिया में कई बार मजाक उड़ चुका है। जिसको लेकर उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा कि, आप मैं सिर्फ अपने लिए नहीं बोल रहा हूं बल्कि कई लोगों के लिए बोल रहा हूं... उन्होंने कहा कि, सोशल मीडिया के आने के बाद यह बहुत बढ़ गया है कि लोग अक्सर गालियां देने लगते हैं, यह कुछ ऐसा है जिसमें मेरा कोई नियंत्रण नहीं है। गोरे लोग ही सिर्फ हैंडसम लोग नहीं होते। सच्चे बनो, ध्यान रखो और अपनी स्किन में आरामदेह रहो।


कमेंट करें