नेशनल

कासगंज में फिर भड़की सांप्रदायिक हिंसा, दुकानों-गाड़ियों में लगाई गई आग

सतीश वर्मा, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
537
| जनवरी 27 , 2018 , 15:03 IST

उत्तर प्रदेश के कासगंज जिले में गणतंत्र दिवस के मौके पर तिरंगा प्रभात फेरी यात्रा के दौरान दो समुदायों के बीच जमकर बवाल के बाद एक बार फिर शहर में तोड़फोड़ की गई है। कुछ दुकानों में आग लगा दी गई है। पुलिस मौके पर पहुंच चुकी है। फिलहाल इलाके में तनाव बरकरार है। इस बीच शुक्रवार को हिंसा में मारे गए युवक का अंतिम संस्कार कर दिया गया है।

तिरंगा यात्रा के दौरान भड़की थी हिंसा

इस मौके पर बीजेपी सांसद राजवीर सिंह के अलावा स्थानीय विधायक भी मौजूद रहे। आपको बता दें कि तिरंगा प्रभात फेरी यात्रा के दौरान कासगंज में शुक्रवार को हुई हिंसा में एक की मौत हो गई थी जबकि कई लोग घायल हो गए थे। आगजनी और तोड़फोड़ होने के बाद बवाल बढ़ता देख पुलिस प्रशासन ने आस-पास जिलों की पुलिस फोर्स मौके पर बुलाई, जिसके बाद उपद्रवियों पर काबू किया जा सका। एडीजी कानून-व्यवस्था आनंद कुमार ने बताया कि इस मामले में कई लोगों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया है।
इस वारदात के बाद प्रदर्शनकारियों ने मृतक के परिजनों के लिए मुआवजा और सरकारी नौकरी के साथ ही आरोपियों के खिलाफ उचित कार्रवाई की मांग की है। उनका कहना था कि इस बारे में मुख्यमंत्री की तरफ से आश्वासन मिलने के बाद ही शव का अंतिम संस्कार किया जाएगा। बताया जा रहा है कि सीएम योगी आदित्यनाथ के आश्वासन के बाद युवक का अंतिम संस्कार कर दिया गया है।

Also Read: यूपी के कासगंज में ABVP की तिरंगा यात्रा में सांप्रदायिक तनाव, 1 की मौत

ऐसे भड़की हिंसा

दरअसल कासगंज जिले के थाना कोतवाली क्षेत्र में बिलराम गेट के पास से तिरंगा यात्रा गुजर रही थी। इस दौरान कासगंज में बीजेपी कार्यकर्ताओं ने हिंदुस्तान जिंदाबाद और पाकिस्तान मुर्दाबाद के साथ जय श्रीराम और भारत माता की जय के नारे लगाए। इसी दौरान दूसरे समुदाय के लोगों ने उनका विरोध किया, जिसके बाद दोनों पक्षों में भिड़ंत हो गई।
इस दौरान समुदाय विशेष के लोगों ने भी मोर्चा संभाल लिया और घर की छतों से पथराव और फायरिंग शुरू कर दी। कुछ ही देर में उपद्रवियों ने तहसील रोड पर भी फायरिंग कर दी। इसके बाद इलाके में तनाव और बढ़ गया। गाड़ियों में आग लगा दी गई। इसमें गोली लगने से रेलवे रोड निवासी चंदन गुप्ता उर्फ अभिषेक की मौत हो गई, जबकि एक अन्य युवक प्रिंस गंभीर रूप से घायल हो गया। उपद्रवियों के पथराव में करीब आधा दर्जन लोगों को भी मामूली चोटें आईं।

हिंसा पर काबू

घटना की जानकारी मिलते ही जिलाधिकारी राजेन्द्र प्रताप सिंह, एसपी सुनील कुमार सिंह पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंच गए। पुलिस ने हिंसा पर काबू करने के लिए बल प्रयोग किया, लेकिन उपद्रवियों पर काबू नहीं पाया जा सका। पुलिस विभाग ने अतिरिक्त पुलिस फोर्स मौके पर बुलाया। इसके बाद उपद्रवियों को वहां से खदेड़ा गया।

देखिए वीडियो


कमेंट करें