लाइफस्टाइल

तनाव से मुक्ति चाहते हैं? अपनाएं 4-A फार्मूला और स्ट्रेस भगाएं दूर

कीर्ति सक्सेना, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
100
| जून 30 , 2017 , 19:28 IST | नई दिल्ली

किसी न किसी वजह से जीवन में सबको टेंशन होती ही है जैसे कि काम की टेंशन, बॉस की टेंशन घर की जिम्मेदारी, हर रोज आपको इन टेंशन से गुजरना पढता है। टेंशन लेने के कारण आप मानसिक तौर पर बीमार होने लगते हैं। साथ ही आपकी काम करने की क्षमता भी लगातार घटती है।
अगर आप अपने मानसिक तनाव से निपटना जानते हैं, तो आप बहुत सी परिशानियों का सामना आराम से कर सकते हैं। एसी ही टेंशन को खत्म करने के लिए ये चार 'A' का फार्मूला आपके लिए बेहद मददगार साबित होगा।

Download

1.( फार्मूला A-1) स्ट्रेस को करें 'अवॉइड'

भागदौड़ भरी लाइफ और काम के बोझ के कारण कई बार स्ट्रेस बढ़ जाता है। लेकिन हम अपनी जिंदगी में कई बार ऐसे स्ट्रेस भी ढोते रहते हैं जिन्हें आसानी से 'अवॉइड' किया जा सकता है। जी हां, स्ट्रेस को दूर करने का बेस्ट तरीका होता है, 'न' सबसे पहले आप 'न' कहना सीखें। अगर दफ्तर में हैं तो अपने काम करने की क्षमता को परखें। अगर काम आपके बस का नहीं तो फौरन 'न' कहें। नकारात्मक लोगों से दूर रहें। घर के लोगों से बातचीत करें और आपसे लगी उम्मीदों और आपकी क्षमताओं के बीच की दूरी को बताएं।

 

2.( फार्मूला A-2) परिस्तिथि को करें 'ऑल्टर'

कई परिस्थितियां ऐसी होती हैं जिन्हें न नहीं कह सकते तो फिर उनके लिए रणनीति बनाएं। जैसे अगर किसी प्रोजेक्ट में आपको काम करना ही है और वह आपके मन का नहीं है तो फिर अपनी सकारात्मक रवैए को बढ़ाएं। ऐसा सोच सकते हैं कि ये प्रोजेक्ट भले ही आज आपके मन का नहीं है लेकिन आने वाले समय में ये आपको फायदा पहुंचाएगा। ऐसे ही हर स्ट्रेसफुल काम के नतीजे के बारे में सोचे।

 

3.( फार्मूला A-3) कुछ कर दिखने के लिए, कुछ स्ट्रेस को करें 'अडैप्ट'

किसी भी परिस्तिथि में आपने आप को ढालना सफलता की सबसे पहली सीढ़ी होती है। समस्या को पहचानकर उसे दोबारा बारीकी से परखें। जैसे, कैसे ट्रैफिक में फंसा हुआ एक इंसान, अपने गुस्से को नियंत्रण करते हुए उस समय का इस्तेमाल अपने मनपसंद गाने सुनने में करता है। ठीक उसी तरह किसी स्ट्रेस भरे काम को अपनी मनपसंदीदा तरीके से करने की सोचे।

4.( फार्मूला A-4)कुछ चीजें तो जस की तस ही 'एक्सेप्ट' करें

जिंदगी में सबकुछ कंट्रोल नहीं किया जा सकता। जैसे किसी अपने की मौत, कोई बीमारी, कभी-कभी नौकरी का छूटना। ऐेसे में हमे अपने शुभचिंतकों को सहारा लें। कुछ प्रोडक्टिव करने की सोचें।


कमेंट करें