मनोरंजन

बॉलीवुड के 'शो मैन' सुभाष घई की वो बातें जो ख़ास थी हैं और हमेशा ही रहेंगी (बर्थडे स्पेशल)

icon अमितेष युवराज सिंह | 0
104
| जनवरी 23 , 2018 , 23:16 IST

सुभाष घई हिंदी सिनेमा के जाने-माने निर्माता निर्देशक हैं। इनका जन्म 24 जनवरी 1945 में हुआ था। वह हिंदी सिनेमा में अपनी बेहतरीन फिल्मों कालीचरण,हीरो,जंग,कर्मा, राम लखन, सौदागर,खलनायक,परदेश, ताल,जैसी फिल्मों के लिए जाने जाते हैं। साल 2006 में उन्हें सामाजिक फिल्म इकबाल के लिए राष्ट्रीय सम्मान से भी पुरूस्कारित किया गया।

सुभाष घई का जन्म पंजाबी परिवार मेंनागपुर महाराष्ट्र में हुआ था। उनके पिता दिल्ली में एक डेंटिस्ट थे।  बता दें सुभाष घई नें अपनी शुरुआती पढ़ाई दिल्ली से पूरी की है। उन्होंने कॉमर्स से स्नातक की पढ़ाई सम्पन्न की है। इसके बाद साल 1963 में उन्होंने फिल्म एंड टेलीविज़न इंस्टीयूट ऑफ़ इंडिया में दाखिला ले लिया। सुभाष घई ने अपने करियर की शुरुआत बतौर अभिनेता की थी।

Subhashghai

जानकारी के लिए बता दें उन्होंने अपने शुरूआती करियर में कई लो बजट फिल्मों को किया। वें सिर्फ सहायक किरदार ही नहीं बल्कि उमंग और गुमराह जैसी फिल्मों में लीड रोल में भी नजर आये। जब उन्हे लगा की अभिनय उन्के बस की बात नहीं है तो उन्होनें फील्म निर्देशन में अपनीं किस्मत आजमानें की सोची। जिसके बाद निर्देशन का डेब्यू हिंदी सिनेमा में फिल्म कालीचरण से वर्ष 1976 में किया।

Subhash_ghai

उनकी यह फिल्म बॉक्स-ऑफिस पर सुपर-डुपर हिट साबित हुई थी। इस फिल्म के उन्हें आलोचकों से काफी अच्छी प्रतिक्रिया मिली साथ ही उन्हें कई उन्हें पुरुस्कारों से भी सम्मानित किया गया। उन्होंने अभिनेता दिलीप कुमार के साथ मिलकर बॉलीवुड की कई फिल्मों का निर्देशन किया जिनमे विधाता, सौदागर,कर्मा जैसी फ़िल्में शामिल हैं।

Subhas-ghai-1467267519_835x547


बता दें उन्हें फिल्म कर्मा के लिए राष्ट्रीय पुरुस्कार से भी नवाजा गया। इसके बाद उन्होंने हिंदी सिनेमा में कई हिट फ़िल्में दी, जो दर्शकों और आलोचकों द्वारा बेहद सराही गयी। सुभाष घई नें अपने हिंदी सिनेमा करियर में करीबन 16 फ़िल्में लिखी और निर्देशित की।  जिनमे से 13 फिल्म बॉक्स-ऑफिस पर ब्लॉक-बस्टर हिट साबित हुई।


लगातार सफलता की सीढियोँ पर चढ़ने वाले सुभाष घई ने अपना प्रोडक्शन कम्पनी 'मुक्त आर्ट्स' का निर्माण किया। साल 1982 दौरान उन्होंने अपने प्रोडक्शन के बैनर तले कई ब्लॉकबस्टर फिल्मों का निर्माण किया। घई ने फिल्म निर्देशन के बाद बतौर निर्माता भी हिंदी सिनेमा को कई हिट फ़िल्में दी। जिनमे ऐतराज, इक़बाल, चाइना टाउन, अपना अपना मनी मनी जैसी फ़िल्में शामिल हैं।

Subhash-ghai

सुभाष घई नें हिंदी सिनेमा को कई बेहतरीन अभिनेता-अभिनेत्रियां भी दी,जिनमे जैकी श्रॉफ, माधुरी दीक्षित, मनीषा कोइराला, सरोज खान, महिमा चौधरी, ईशा श्रावणी,श्रेयस तलपडे जैसे कई कलाकार उन्ही की देन हैं। मनमोहन देसाई और प्रकाश मेहरा की कड़ी में ही सुभाष घई बॉलीवुड के शोमैन है। सुभाष घई ने भी इन्ही दोनों की तरह बड़े प्लाट की कहानियों को बड़े सितारों के साथ प्रस्तुत किया है।

Ffffffffff

उन्होंने अधिकतर आपराधिक पृष्टभूमि वाली पटकथाओं पर फिल्मे बनाई। अमिताभ युग के मध्य में सुभाष घई एक बड़ी हैसियत वाले फिल्मकार बन गये। वह हमेशा नये चर्चित कलाकारो के साथ फिल्मे बनाते रहे। अस्सी के दशक में जब फिल्म उद्योग के सभी बड़े फिल्मकार अमिताभ के साथ फिल्मे बनाने की ख्वाहिश रखते थे वही सुभाष घई शत्रुघ्न सिन्हा के साथ फिल्म निर्माण के मैदान में दाखिल हुए। 


सुभाष घई ने अपनी आरम्भिक तीन फिल्मो – कालीचरण(1976), विश्वनाथ(1978) और गौतम-गोविंदा(1980) में शत्रुघ्न सिन्हा को मुख्य अभिनेता के रूप में पर्दे पर उतारा। बता दें ऐसा भी माना जाता है कि शत्रुघ्न सिन्हा को पूरा एक्सपोजर सुभाष घई के निर्देशन में ही मिला है। “कालीचरण” में शुत्रुघ्न सिन्हा ने स्मरणीय भूमिका अदा की है।


author
अमितेष युवराज सिंह

लेखक न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया में असिस्टेंट एग्जीक्यूटिव प्रोड्यूसर हैं

कमेंट करें