विज्ञान/टेक्नोलॉजी

CAG रिपोर्ट में खुलासा, आकाश मिसाइल के 30 फीसदी परीक्षण हुए फेल

श्वेता बाजपेई, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
284
| जुलाई 29 , 2017 , 17:02 IST | नई दिल्ली

शुक्रवार को भारतीय वायुसेना पर सीएजी की रिपोर्ट को संसद मे पेश किया गया। रिपोर्ट में एक बड़ा खुलासा हुआ है। सीएजी की रिपोर्ट के मुताबिक सतह से आसमान में मार करने वाली मिसाइल आकाश के 30 फ़ीसदी परीक्षण- जो अप्रैल से नवंबर 2014 के बीच हुए, वे नाकाम रहे हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि आकाश अपने लक्ष्य से पीछे छूट गया, इसकी क्वालिटी कमज़ोर दिखी।  

भारतीय वायुसेना ने इस पर कोई भी टिप्‍पणी करने से मना कर दिया। सीएजी ने रिपोर्ट में कहा है कि मिसाइलों की कमी के कारण देश युद्ध के दौरान एक जोखिम के दौर से गुजर सकता है। रिपोर्ट में कहा गया है कि मिसाइल लक्ष्य से कम दूरी पर ही गिर गया। इसके अलावा उसमें आवश्यकता से कम वेलोसिटी थी और मिसाइल के कई महत्वपूर्ण इकाइयां खराब चल रही थीं।

आकाश मिसाइल का निर्माण भारत इलेक्ट्रॉनिक्स ने किया है। कैग का कहना है कि इसके लिए 3600 करोड़ रुपए का भुगतान भी किया जा चुका है। बावजूद इसके अभी तक 6 में से एक भी स्थान पर इसे लगाया नहीं जा सका है।

रिपोर्ट के मुताबिक भारत सरकार ने खतरों काे देखते हुए 2010 में वायुसेना के लिए 'एस' सेक्टर में मिसाइल प्रणाली तैनात करने का फैसला किया था। इस प्रणाली को जून 2013 से दिसंबर 2015 के बीच तैनात करने की योजना थी, लेकिन चार साल के बाद भी यह योजना आगे नहीं बढ़ सकी है। वहीं अनुबंध पर हस्ताक्षर हुए करीब सात साल हो चुके हैं आैर इसके लिए करीब 95 फीसदी भुगतान भी किया जा चुका है।

आकाश को 2008 में पहली बार सेना में शामिल किया गया। आकाश आैर उसका नया संस्करण एमके-2 दुश्मन के विमानों आैर मिसाइलों को करीब 20 किलोमीटर की दूरी पर मार गिराने के मकसद से डिजाइन किया गया है।

बदतर बात यह है कि सीएजी के मुताबिक कम से कम 70 मिसाइल की जीवन काल कम से कम 3 साल ऐसे ही इस वजह से बेकार हो गया, क्योंकि उनके स्टोरेज के लिए कोई सुविधा उपलब्ध नहीं थी। प्रत्येक आकाश मिसाइल की लागत करोड़ों में होती है। इसी वजह से 150 अन्य मिसाइल का जीवन काल दो से तीन साल और 40 मिसाइल का जीवन काल एक या दो साल कम हो चुका है। आकाश मिसाइल का जीवन काल 'मैन्युफैक्चरिंग डेट' से 10 साल तक होता है और उन्हें कुछ नियंत्रित दशाओं में संग्रह करना पड़ता है।


कमेंट करें