खेल

15 नवंबर 1989: आज ही के दिन सचिन के ‘सचिन रमेश तेंदुलकर’ बनने की शुरुआत हुई थी

सतीश वर्मा, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
68
| नवंबर 15 , 2017 , 16:08 IST | नई दिल्ली

क्रिकेट इतिहास में 15 नवंबर का दिन बहुत स्पेशल है। इसी दिन 1989 में मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंडुलकर ने कराची के नैशनल स्टेडियम में टेस्ट क्रिकेट में डेब्यू किया था। उस वक्त वह मुश्ताक मोहम्मद और आकिब जावेद के बाद सबसे कम उम्र में डेब्यू करने वाले तीसरे सबसे युवा टेस्ट क्रिकेटर थे। 28 साल पहले भारत के जिस किशोर ने बतौर क्रिकेटर अपना करियर शुरू किया था वह आज इस खेल का सबसे बड़ा महानायक बन चुका है।

ये है सचिन का रिकॉर्ड

मुंबई के इस शर्मीले किशोर को देखकर उस वक्त किसी ने नहीं सोचा था कि एक दिन वह कीर्तिमानों के कई पहाड़ चढ़ जाएंगे। 24 साल के अंतरराष्ट्रीय करियर में सचिन ने कुल 200 टेस्ट मैच खेले और टेस्ट क्रिकेट में 53.78 की औसत से 15921 रन बनाए। इस दौरान उन्होंने 51 टेस्ट शतक और 68 अर्धशतक जमाए।

Sachin

पहले मैच में छठे नंबर पर गए बल्लेबाजी करने

पहले टेस्ट मैच में सचिन को छठे नंबर पर बल्लेबाजी के लिए भेजा गया। भारत की कप्तानी कृष्णमाचारी श्रीकांत कर रहे थे। पहली पारी में पाकिस्तान ने 409 रन बनाकर भारत को दबाव में डाल दिया था। एक समय भारतीय टीम 41 के स्कोर पर 4 विकेट गंवा चुकी थी. मनोज प्रभाकर के विकेट गिरने के बाद उदीयमान सचिन की बारी आई।

सचिन के साथ वकार ने किया टेस्ट डेब्यू

सचिन ने 24 गेंदों का सामना किया और दो चौकों की मदद से 15 रन बनाए। साथ ही अजहरुद्दीन के साथ 32 रनों की साझेदारी की। आखिरकार सचिन को जिस पाकिस्तानी तेज गेंदबाज ने बोल्ड किया वह भी अपना पहला टेस्ट मैच खेल रहा था। वह गेंदबाज थे वकार यूनुस। भारत ने पहली पारी में 262 रन बनाए। मजे की बात है कि कराची टेस्ट में सचिन और वकार के अलावा शाहिद सईद (पाक) और सलिल अंकोला ने भी डेब्यू किया था। सईद और अंकोला का यह पहला और आखिरी टेस्ट साबित हुआ।

Sc 2

पाकिस्तान ने अपनी दूसरी पारी 305/5 के स्कोर पर घोषित कर दी। भारत को 453 रनों का टारगेट मिला। भारतीय बल्लेबाजों ने बेहतर प्रदर्शन (303/3) कर मैच ड्रॉ करा लिया। सचिन को दूसरी पारी में बल्लेबाजी करने का मौका नहीं मिला। अपना 100वां टेस्ट मैच खेल रहे कपिल देव ने उस टेस्ट में 7 विकेट लिये (एक अर्धशतक भी) और मैन ऑफ द मैच रहे।

 

 


कमेंट करें