नेशनल

आधार लिंकिंग प्राइवेसी पर है खतरा? SC की 9 जजों की बेंच करेगी तय

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
96
| जुलाई 18 , 2017 , 17:01 IST | नई दिल्ली

सुप्रीम कोर्ट ने आधार लिंकिंग को निजता के लिए खतरा बताने वाली याचिका पर सुनवाई का मामला सुप्रीम कोर्ट की 9 जजों की पीठ को सौंप दिया है। ये पीठ इस बात की सुनवाई करेगी कि संविधान के तहत निजता का अधिकार मौलिक अधिकार है या नहीं। इसके निर्णय के लिए उच्चतम न्यायालय नौ न्यायाधीशों वाली पीठ का गठन करेगी।

चीफ जस्टिस जेएस खेहर की अगुआई वाली पांच जजों की बेंच ने करीब एक घंटे सभी पक्षों की दलीलें सुनीं। इसके बाद तय किया कि आधार से जुड़े प्राइवेसी के मामले पर पहले सुनवाई होनी चाहिए। दरअसल, आधार के लिए बायोमेट्रिक रिकॉर्ड लिए जाने को पिटीशनर प्राइवेसी के लिए खतरा बता रहे हैं। उधर, सरकार की दलील है कि प्राइवेसी का हक मौलिक अधिकार है ही नहीं।

Sc

9 जजों की बेंच करेगी सुनवाई

केस की सुनवाई के दौरान अटॉर्नी जरनल केके वेणुगोपाल ने कोर्ट से कहा कि 1950 में एमपी शर्मा मामले में सुप्रीम कोर्ट की 8 जजों की बेंच कह चुकी है कि प्राइवेसी का हक फंडामेंटल राइट नहीं है।उन्होंने कहा कि,

इसी तरह 1960 में खड़क सिंह के मामले में 6 जजों की बेंच ने भी यही कहा था। ऐसे में इस मुद्दे पर 5 जजों की बेंच सुनवाई नहीं कर सकती। इसे 9 जजों की बेंच को भेजा जाना चाहिए

आधार मामलों की सुनवाई कर रही पांच जजों की बेंच में चीफ जस्टिस के अलावा जस्टिस जे. चेलामेश्वर, एसए बोबडे, डीवाय चंद्रचूड और एस अब्दुल नजीर भी शामिल हैं। बता दें कि सुप्रीम कोर्ट के तीन जजों की बेंच ने 7 जुलाई को कहा था कि आधार से जुड़े जितने भी मुद्दे आ रहे हैं, उनका फैसला 9 जजों की बेंच ही कर सकती है। बेंच की अगुआई कर रहे जस्टिस जे. चेलामेश्वर ने साफ किया था कि जजों की संख्या का फैसला चीफ जस्टिस ही करेंगे।

Aadhar

क्या है पूरा मामला

सरकार की कल्याणकारी योजनाओं का फायदा लेने के लिए केंद्र ने आधार को जरूरी कर दिया है। इसके खिलाफ तीन अलग-अलग पिटीशंस सुप्रीम कोर्ट में लगाई गई थीं। इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने अपने ऑर्डर में कहा था कि सरकार और उसकी एजेंसियां योजनाओं का लाभ लेने के लिए आधार को जरूरी ना बनाएं। बाद में सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र को ये छूट दी थी कि एलपीजी सब्सिडी, जनधन योजना और पब्लिक डिस्ट्रीब्यूशन सिस्टम से लाभ लेने के लिए लोगों से वॉलेंटरी आधार कार्ड मांगे जाएं।

 

 


कमेंट करें