अभी-अभी

3 तलाक़ 3 कहानियां: शुमायला को बेटी होने की सज़ा मिली तो 2 बहनों को दहेज नहीं देने की

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
161
| अप्रैल 24 , 2017 , 16:12 IST | नयी दिल्ली

यूपी के गाजियाबाद के लोनी में दो सगी बहनों को तीन तलाक देने का मामला सामने आया है। दहेज में प्लॉट और नगदी न मिलने पर प्रेम नगर कॉलोनी में रहने वाली एक बहन के पति ने फोन पर तो दूसरी बहन के पति ने खत लिखकर तलाक दे दिया।

दोनों बहनों का दो सगे भाईयों से निकाह हुआ था। अब दोनों भाइयों की दूसरी शादी की जानकारी मिलने पर दोनों बहनों ने पतियों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई और कोर्ट में खर्चे के लिए याचिका दी है।

दोनों तलाक पीड़िता बहनों ने तलाक को गैर कानूनी बताते हुए यूपी के सीम योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखकर न्याय मांगा है।

बता दें कि लोनी निवासी दो लड़कियों का निकाह बागपत निवासी शफीक के बेटे जफर और दानिश के साथ नौ जनवरी 2010 में हुआ था। आरोप है कि शफीक का परिवार शादी में कम दहेज मिलने से नाखुश था। वर पक्ष के लोग शादी में प्लॉट और नगदी की डिमांड कर रहे थे। शादी के डेढ़ माह बाद ही जफर पत्नी की छोड़कर नौकरी करने सउदी अरब चला गया।

Tt

इस बीच परिवार के लोग जफर की पत्नी और उसकी छोटी बहन को परेशान करने लगे। कुछ दिन बाद जफर की पत्नी अपने मायके आकर रहने लगी। डेढ़ साल बाद उसकी छोटी बहन भी ससुराल से पिता के पास आ गई। इस दौरान दोनों बहनों ने एक-एक बेटे को जन्म दिया। आरोप है कि तीन माह पहले सउदी से लौटकर दोनों भाइयों ने बड़ौत की रहने वाली दो लड़कियों से शादी कर ली।

उधर, उत्तर प्रदेश के अमरोहा जिले में राष्ट्रीय नेटबॉल खिलाड़ी शुमायला को उसके पति ने लड़की पैदा होने पर तलाक दे दिया। शुमायला न्याय पाने के लिए अधिकारियों से लेकर मुख्यमंत्री योगी के दरबार तक जा पहुंची है। नेशनल नेटबॉल की राष्ट्रीय खिलाड़ी रही शुमायला अब तलाक का दंश झेल रही है। सुमायला अमरोहा जिले के सदर कोतवाली इलाके के मोहल्ला पिरजदा की रहने वाली हैं।

Shumayala

शुमायला जिले से लेकर नेशनल स्तर पर अपना कई खेलों में दम दिखा चुकी है। सुमालया का कसूर मात्र इतना है कि उन्होंने बेटी को जन्म दिया। शुमायला की शादी 9 फरवरी 2014 को लखनऊ की तहसील मोहन लाल गंज के अमेठी कस्बे में हुई थी। जिससे शुमायला के सुसराल पक्ष वाले दहेज की मांग को लेकर परेशान करने लगे थे जिससे उसके शोहर ने भी उसे परेशान किया शारीरिक और मानसिक शोषण किया।

लेकिन जब शुमायला प्रेगनेंट हो गयी तो उसके पति ने उसका भ्रूण लिंग चेकअप कराया जिसमें शुमायला के लड़की होने का पता चला तो, उसे अपने मायके भेज दिया था। शुमायला ने 15 मई 2015 को मुरादाबाद जिले में एक अस्पताल में जब लड़की को जन्म दिया तो पति फारुख अली लड़की होने से बहुत नाराज हुआ और शुमायला का उड़पीड़न करने लगा । जिसके बाद शुमायला को 8 फरवरी 2016 को फोन पर तलाक दे दिया।

Tt 3


कमेंट करें