अभी-अभी

मध्य प्रदेश बंद के दौरान आगजनी, किसानों ने कई गाड़ियां फूंकी, डीएम को खदेड़ा

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
146
| जून 7 , 2017 , 15:03 IST | मंदसौर

मध्य प्रदेश में कर्ज माफी और अपनी फसल के वाजिब दाम की मांग को लेकर किसानों द्वारा आंदोलन जारी है। बुधवार को भारतीय किसान संघ ने प्रदेश में बंद बुलाया है। इसी बीच मंदसौर में विरोध कर रहे लोगों ने 8-10 गाड़ियों में आग लगा दी।

वहीं भारतीय किसान संघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवकुमार शर्मा उर्फ कक्काजी ने दावा किया कि मंदसौर में 6 लोगों की नहीं बल्कि 8 लोगों की मौत हुई है। सरकार इन आकड़ो को छुपा रही है।

इस आंदोलन में जारी हिंसा थमने का नाम नहीं ले रही है। मंगलवार को फायरिंग में मारे गए लोगों के शव को लेकर जाम कर रहे किसानों को समझाने पहुंचे कलेक्टर और एसपी के साथ मारपीट की गई। कुछ किसानों ने इन अफसरों के साथ धक्कामुक्की भी की।

बता दें कि पुलिस ने बड़ी मुश्किल से उन्हें भीड़ से बचाकर निकाला। दरअसल, मंगलवार को वहां की हालत पर काबू पाने के लिए सीआरपीएफ ने फायरिंग की थी, जिसमें 6 लोगों की मौत हो गई। किसानों की मौत के बाद आंदोलन ने उग्र रूप ले लिया। प्रदर्शनकारियों ने मंगलवार को 30 से ज्यादा वाहन फूंक डाले। उसके बाद मंदसौर और पिपलिया मंडी में कर्फ्यू लगा दिया गया।

जारी हिंसा के बीच आज कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी मंदसौर जा सकते है। इस मामले को लेकर उन्होंने ट्वीट भी किया।

बुधवार को भी कर्फ्यू जारी है, लेकिन किसान ने भी विरोध-प्रदर्शन जारी रखा है। बरखेड़ा पंत गांव से गुजरने वाले मार्ग पर किसानों ने चक्काजाम कर दिया है, आवागमन बंद है। परिजनों की मांग है कि मृतक किसानों को शहीद का दर्जा दिया जाए। प्रदर्शनकारी गोलीबारी में मारे गए छात्र अभिषेक पाटीदार के शव को सड़क पर रखकर प्रदर्शन कर रहे हैं।

चक्काजाम में शामिल दिनेश पाटीदार का कहना है कि, पुलिस ने जानबूझकर गोली चलाई। किसान अपनी मांगों को लेकर सड़क पर थे और पुलिस ने बर्बर कार्रवाई की। बुधवार को भी स्थिति तनावपूर्ण बनी हुई है।

शव के साथ प्रदर्शन कर रहे किसानों के समझाने पर जिलाधिकारी स्वतंत्र कुमार सिंह व पुलिस अधीक्षक ओ पी त्रिपाठी पहुंचे तो किसानों ने उनका घेराव कर दिया और धक्कामुक्की भी की। स्थिति बिगड़ने पर त्वरित कार्य बल व भारी पुलिस बल को बुलाया गया, तब कहीं दोनों अधिकारी सुरक्षित निकल पाए। एक तरफ किसानों का जमावड़ा है तो दूसरी ओर पुलिस बल तैनात है।

वहीं दूसरी ओर राष्ट्रीय किसान मजदूर संघ ने किसानों की मौत पर बुधवार को प्रदेश बंद का आह्वान किया है। इस बंद का कांग्रेस ने भी समर्थन किया। इस बंद का कई स्थानों पर असर भी नजर आ रहा है।

10_1496782942_1496804004

इंदौर में किसान आंदोलन के मद्देनजर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए है। पुलिस उप महानिरीक्षक हरिनारायण चारी मिश्रा ने संवाददाताओं से चर्चा के दौरान माना कि आमजनों को किसी तरह की परेशानी नहीं हो इसलिए सुरक्षा के इंतजाम किए गए हैं। प्रमुख स्थानों पर पुलिस बल तैनात है।

इसी तरह उज्जैन, झाबुआ, भोपाल में बंद का मिलाजुला असर नजर आ रहा है। किसी भी स्थिति से निपटने के लिए हर स्थान पर सुरक्षा बलों को तैनात किया गया है।


कमेंट करें