इंटरनेशनल

ट्रंप ने दिया मेरिट बेस्ड इमिग्रेशन का प्रपोजल, भारतीयों को हो सकता है फायदा

सतीश वर्मा, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
157
| अक्टूबर 10 , 2017 , 11:52 IST | वाशिंगटन

डोनाल्ड ट्रम्प ने अमेरिकी कांग्रेस को अपनी नई इमिग्रेशन पॉलिसी का प्रपोजल भेजा है। इससे हाइली स्किल्ड इंडियन प्रोफेशनल्स को फायदा हो सकता है। लेकिन वो अपनी फैमिली को वहां नहीं ले जा सकेंगे। ट्रम्प एडमिनिस्ट्रेशन का कहना है कि इमिग्रेशन पॉलिसी का यह नया प्रपोजल अमेरिका के नेशनल इंटररेस्ट्स को देखते हुए तैयार किया गया है। इस प्रपोजल में H-1B वीजा का कोई जिक्र नहीं है, जिसके लिए सबसे ज्यादा भारतीय कोशिश करते हैं।

Hib visa

नाबालिगों के अमेरिका में घुसने पर रोक

ट्रम्प ने अमेरिका के ग्रीन कार्ड सिस्टम को भी नए सिरे से तैयार करने का प्रपोजल दिया है। इसके अलावा अमेरिका-मेक्सिको बॉर्डर पर दीवार बनाना और पेरेंट्स के बिना अमेरिका आने वाले नाबालिगों पर रोक भी ट्रम्प एडमिनिस्ट्रेशन की प्रपोज्ड इमिग्रेशन पॉलिसी का हिस्सा हैं।

मेरिट बेस्ड इमिग्रेशन सिस्टम पर ट्रम्प का कहना है कि ‌फिलहाल अमेरिका की जो इमिग्रेशन पॉलिसी है, उससे देश को फायदा नहीं होता। ट्रम्प ने ये भी कहा है कि कई साल से लो स्किल्ड इमिग्रेंट्स अमेरिका आते रहे हैं। इससे बेरोजगारी बढ़ती है और सरकार के रिर्सोसेस पर भी बुरा असर पड़ता है।

ट्रम्प का कहना है कि अगर मेरिट बेस्ड इमिग्रेशन पॉलिसी होती है तो ना सिर्फ अमेरिकी लोगों को ज्यादा नौकरियां दी जा सकेंगी, बल्कि टैक्सपेयर्स के पैसे का भी बेहतर इस्तेमाल किया जा सकेगा।

Trump

भारतीयों को कैसे हो सकता है फायदा

ट्रम्प एडमिनिस्ट्रेशन हाइली स्किल्ड प्रोफेशनल्स को मेरिड बेस्ट इमिग्रेशन देने के फेवर में है। इससे आईटी सेक्टर में काम कर रहे स्किल्ड भारतीयों को फायदा हो सकता है। लेकिन एक ओर जहां इस नई इमिग्रेशन पॉलिसी से स्किल्ड भारतीयों को फायदा हो सकता है, तो कुछ नुकसान भी होगा। दरअसल, इस पॉलिसी में ये कहा गया है कि ये हाइली स्किल्ड प्रोफेशनल्स अपने फैमिली मेंबर्स को अमेरिका नहीं ला सकेंगे। इसका मतलब ये हुआ कि अगर ये प्रोफेशनल्स अपने बुजुर्ग मां-बाप को अपने साथ अमेरिका में रखना चाहते हैं तो इसकी इजाजत नहीं होगी।

ट्रम्प एडमिनिस्ट्रेशन और डेमोक्रेट्स के बीच ‘ड्रीमर्स’ के मुद्दे पर टकराव है। ड्रीमर्स वो युवा हैं जो बचपन में गैरकानूनी तरीके से अमेरिका आ गए थे। डेमोक्रेट्स इन्हें देश से बाहर निकालने के खिलाफ हैं, लेकिन ट्रम्प एडमिनिस्ट्रेशन का कहना है कि अगर इन लोगों को लेकर कानूनी तौर पर सख्ती नहीं की जाती तो इससे अमेरिकी टैक्सपेयर्स का पैसा खर्च होता रहेगा। ट्रम्प ने इस बारे में कांग्रेस को एक लेटर भी लिखा था।

रिफॉर्मिंग अमेरिकन इमिग्रेशन फॉर स्ट्रान्ग इम्प्लॉइमेंट एक्ट

अगस्त में ट्रम्प एडमिनिस्ट्रेशन ने रिफॉर्मिंग अमेरिकन इमिग्रेशन फॉर स्ट्रान्ग इम्प्लॉइमेंट एक्ट (RAISE) को सपोर्ट का एलान किया था। RAISE से उन लोगों को सबसे ज्यादा फायदा होगा जो हाइली एजुकेडेट और टेक्नोलॉजी प्रोफेशनल्स हैं। इस तरह के सबसे ज्यादा लोग भारत से ही आते हैं। लिहाजा, भारतीयों को ही सबसे ज्यादा फायदा हो सकता है। इसके लिए बहुत अच्छी अंग्रेजी आना भी जरूरी होगा।

 

 


कमेंट करें