नेशनल

आज़ादी के 70 साल के जश्न पर इकबाल ने दिया अनोखा उपहार, बनाया सबसे छोटा तिरंगा

श्वेता बाजपेई, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
206
| अगस्त 11 , 2017 , 14:10 IST | उदयपुर

दिल में यदि कुछ कर गुजरने का जुनून हो तो केवल न आप अपनी मंजिल को पा सकते हैं बल्कि औरों के लिए भी एक मिसाल कायम कर सकते है। इस बात को उदयपुर में रहने वाले इकबाल सक्का ने पूरा कर दिखाया है ।

सक्का ने सबसे छोटा तिंरगा बनाया है। दावा किया जा रहा है कि ये तिरंगा अभी तक का दुनिया का सबसे छोटा और सूक्ष्म राष्ट्रीय ध्वज है। झीलों की नगरी उदयपुर के अंदरुनी शहर खैरादीवाड़ा की तंग गलियों में रहने वाला यह व्यक्ति अपनी असाधारण प्रतिभा के दम पर विश्वस्तर के कई रिकार्ड तोड़ चुका है। सक्का ने हाल ही में स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर एक ऐसा तिरंगा बनाया है जिसका वजन शून्य मिलीग्राम है और उसे नंगी आंखों से देखना तो नामुमकिन सा है। सक्का द्वारा बनाया गया यह तिरंगा महज 0.5 मिली मीटर का है।

इस तिरंगे की खासियत यह है कि यह दुनिया की सबसे पतली 12 नम्बर की सुई के छोटे से छेद में से भी आसानी से निकाला जा सकता है। सक्का अब इसे अपने नये रिकॉर्ड में दर्ज करवाने की कोशिश में जुट गये हैं।

सक्का का दावा है कि कनाडा के सबसे सूक्ष्म राष्ट्रीय ध्वज का रिकॉर्ड तोड़ते हुए इस सूक्ष्म स्वर्ण तिरंगे को बनाया है। इससे पहले कनाडा के वाटरलू विश्वविद्यालय के एक छात्र के नाम दुनिया के सबसे छोटे राष्ट्रीय ध्वज बनाने का रिकॉर्ड दर्ज था।

इसी जज्बे के साथ सबसे पहले सक्का ने वर्ष 1991 में सबसे कम वजन की सूक्ष्म स्वर्ण चेन बनाकर गिनीज बुक ऑफ विश्व रिकार्ड में अपना नाम दर्ज कराया। इसके बाद तो सक्का ने फिर पीछे मुड़कर ही नहीं देखा।

वर्ष 2004 में विश्व की सबसे सूक्ष्म चाय की केतली, 2009 में विश्व की सबसे सूक्ष्म स्वर्ण स्टाम्प, बनाकर गिनीज बुक में अपना नाम दर्ज कराया। यही नहीं सक्का ने करीब 52 ऐसी ही नायाब कृतियां बनाई हैं जो गिनीज बुक ऑफ रिकॉर्ड, लिम्का बुक ऑफ रिर्काड्स, यूनिक वर्ड रिर्काड्स, इंडिया बुक ऑफ रिर्काड्स सहित अनूठे रिर्काड्स की किताबों में दर्ज हैं। सक्का का यह नया रिकॉर्ड उनका 53वां विश्व रिकॉर्ड है।


कमेंट करें