नेशनल

माल्या के प्रत्यर्पण मामले में भारत ने ब्रिटेन से मांगी मदद, ब्रिटेन ने दिया सकारात्मक जवाब

अर्चित गुप्ता | 0
32
| नवंबर 6 , 2017 , 18:45 IST | नई दिल्ली

भारत ने आज विजय माल्या और ललित मोदी समेत 13 भगोड़ों के प्रत्यर्पण के लिए ब्रिटेन से सहयोग मांगा था और उससे कहा था कि वह अपनी जमीन का इस्तेमाल कश्मीरी और खालिस्तानी अलगाववादियों द्वारा नहीं होने दे। इस पर ब्रिटिश सरकार ने कहा कि वह इस मुद्दे पर विचार करेगी। केंद्रीय गृह राज्यमंत्री किरेन रिजिजू ने कहा, 'हम ब्रिटेन के इमिग्रेशन मिनिस्टर के आभारी हैं कि वह हमारी राय पर विचार कर रहे हैं। हमने प्रत्यर्पण के 13 मामले और आपसी वैधानिक सहयोग संधि के तहत 16 मामलों को उठाया है।'

रिजिजू ने ये बातें ब्रिटेन के इमिग्रेशन मिनिस्टर ब्रैंडन लेविस से मुलाकात के बाद कही। बता दें कि लेविस भारत के दौरे पर हैं। गृह मंत्रालय के एक अधिकारी ने कहा कि रिजिजू ने शराब कारोबारी विजय माल्या, पूर्व आईपीएल कमिश्नर ललित मोदी और क्रिकेट सटोरिये संजीव कपूर समेत 13 लोगों के प्रत्यर्पण में ब्रिटेन से सहयोग मांगा है। भारत ने 16 अन्य कथित अपराधियों के अभियोजन में भी कानूनी सहायता मांगी है।

माल्या के मामले पर केंद्रीय मंत्री ने कहा, 'हमने अपना रुख स्पष्ट कर दिया है। सरकार की तरफ से जवाब सकारात्मक है लेकिन इस मसले पर विस्तृत चर्चा नहीं हो सकी क्योंकि मामला अदालत में है।' इतना ही नहीं रिजिजू ने लेविस के सामने ब्रिटेन में सिख चरमपंथियों और कश्मीरी अलगाववादियों की भारत-विरोधी गतिविधियों का मुद्दा भी उठाया।

आपको बता दें कि प्रवर्तन निदेशालय द्वारा दर्ज किए गए मनी लॉन्ड्रिंग के केस के सिलसिले में माल्या को 4 अक्टूबर को लंदन में पुलिस ने गिरफ्तार किया था लेकिन कुछ देर बाद ही उन्हें अदालत से जमानत मिल गई।


कमेंट करें