नेशनल

UN प्रतिनिधि ने की 'स्वच्छ भारत मिशन' की आलोचना, केंद्र ने खारिज की रिपोर्ट

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
94
| नवंबर 11 , 2017 , 09:01 IST | नई दिल्ली

संयुक्त राष्ट्र के विशेष दूत लियो हैलर ने महात्मा गांधी को लेकर टिप्पणी की है। इसपर ऐतराज जताते हुए सरकार ने उनकी रिपोर्ट खारिज कर दी है। दरअसल, सुरक्षित पेयजल और स्वच्छता से जुड़े मानवाधिकार मामलों पर यूएन के विशेष प्रतिनिधि लियो हेलर ने 15 दिनों तक भारत के विभिन्न शहरों की यात्रा कर प्रारंभिक रिपोर्ट तैयार की है।

उन्होंने रिपोर्ट में आशंका जाहिर की है कि स्वच्छता अभियान पर ज्यादा जोर कहीं पेयजल मिशन को कमजोर न कर दे। इसके साथ ही उन्होंने स्वच्छता अभियान के लोगो में गांधी जी के चश्मे की जगह मानवाधिकार के चश्मे का इस्तेमाल करने की बात कही।

Final-Swachh-bhar

उन्होंने कहा कि, मैंने पिछले दो सप्ताह में ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों के अलावा झुग्गी-झोपड़ी बस्ती और राहत शिविरों का दौरा किया। मैं जहां भी गया वहां मैंने महात्मा गांधी के चश्मे वाला स्वच्छ भारत मिशन का लोगो देखा। मिशन तीसरे साल में चल रहा है। अब वह नाजुक वक्त आ गया है जब इसे मानवाधिकार के लेंस से बदला जाए।

वहीं सरकार ने लोगो पर की गई टिप्पणी की निंदा करते हुए कहा कि यह राष्ट्रपिता के प्रति गहरी असंवेदनशीलता दर्शाता है। पूरा विश्व जानता है कि महात्मा गांधी मानवाधिकारों के प्रबल समर्थक थे। स्वच्छ भारत मिशन का अनूठा लोगो गांधीजी का चश्मा है। यह मानव अधिकारों के मूल सिद्धांतों को सम्मिलित भी करता है।

Swachh-Eng

सरकार ने कहा कि, यह रिपोर्ट अशुद्धियों, सामान्यीकरण और पूर्वाग्रह से ग्रसित है। रिपोर्ट में ग्रामीण क्षेत्रों में अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के लोगों तक शौचालय तक पहुंच में भेदभाव की बात भी कही गई है। इसमें शौचालय साफ करने वाले लोगों के मानवाधिकार और विभिन्न स्थानों को खुले में शौचमुक्त (ओडीएफ) घोषित करने पर भी सवाल उठाए गए हैं। आपको बता दें कि इस मसले की अंतिम रिपोर्ट अगले साल सितंबर में जारी होगी।


कमेंट करें