नेशनल

मस्जिदों में सुबह लाउडस्पीकर के बैन पर यूपी के हिंदू-मुस्लिम हुए एक

सतीश वर्मा, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
96
| जून 17 , 2017 , 14:40 IST | बरेली

यूपी के बरेली में हिंदू और कुछ मुसलमानों ने शहर के सात मस्जिदों में हर रोज सुबह लाउडस्पीकर के प्रयोग को लेकर स्थानीय प्रशासन से शिकायत की है। दरअसल, मस्जिद से रमजान के दौरान हर रोज सुबह तीन बजे सहरी के लिए लाउडस्पीकर से मुस्लिमों को जगाने को लेकर शिकायत की गई है।

Loud 2

इस शिकायत के बाद अधिकारियों ने इस मसले को मस्जिद प्रशासन के साथ उठाने का फैसला किया है। प्रशासन मस्जिदों से या तो आवाज कम करने या फिर बंद करने का आग्रह कर सकता है।

अतिरिक्त जिला अधिकारी (एडीएम) ने बताया कि,

मैंने पुलिस अधीक्षक (शहर) को मामले की जांच करने को कहा है और इस मामले को सुप्रीम कोर्ट के गाइडलाइंस के तहत सुलझाने को कहा है। या तो लाउडस्पीकर को मस्जिदों से हटाया जाएगा या फिर उसे काफी धीमी आवाज में बजाया जाए

SC का गाइडलाइंस- रात 10 बजे सुबह 6 बजे तक लाउडस्पीकर बैन

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट की गाइडलाइंस के तहत रात दस बजे से सुबह छह बजे तक लाउडस्पीकर का इस्तेमाल नहीं हो सकता है। इसके अलावा कोर्ट ने कहा था कि,

अनुच्छेद 21 के तहत शांति से सोना मौलिक अधिकार है। सोने में खलल देना प्रताड़ना के समान है और यह मानवाधिकार उल्लंघन की श्रेणी में आता है।

बता दें कि लोगों ने पिछले हफ्ते स्थानीय जिला प्रशासन को ज्ञापन सौंपा था। समाजवादी पार्टी के करीब समझे जाने वाले उत्तर प्रदेश उद्योग व्यापार प्रतिनिधिमंडल ने भी स्थानीय लोगों के समर्थन में एडीएम से शिकायत की थी।

रमजान दूसरों की मदद के लिए है न कि तनाव देने के लिए

प्रतिनिधिमंडल के जिला अध्यक्ष शोभित सक्सेना ने कहा कि,

चाहे मस्जिद हो या मंदिर किसी भी धर्म में किसी दूसरे को तकलीफ नहीं दी जा सकती है। हमारे सात मुस्लिम पड़ोसियों ने भी इस बाबत शिकायत दर्ज कराई है। रमजान दूसरों की मदद के लिए है न कि तनाव देने के लिए।

आसिफ बेग नामक एक शिकायतकर्ता ने बताया, 'मेरी शिकायत के बाद कुछ लोगों ने मुझे घर जाते वक्त शाम को रोका और कहा कि मस्जिद के लाउडस्पीकर की शिकायत के कारण मुझे दोजख मिलेगा। उन्होंने मेरे साथ धक्कामुक्की की और वहां से भाग गए।

काजी भी लाउडस्पीकर के खिलाफ

बरेली के डेप्युटी शहर काजी मौलाना शहाबुद्दीन रिजवी ने कहा कि वह शिकायत से सहमत हैं। उन्होंने कहा, 'लोगों के जगाने के लिए लाउडस्पीकर का इस्तेमाल गलत है। अव्वल होना तो यह चाहिए कि कम आवाज में एक बार ऐसा होना चाहिए। कुछ मौलवी रिकॉर्ड किए गए आवाज को लगातार बजाते हैं। इससे दूसरों को तकलीफ होती है। यह रमजान के भावना के खिलाफ है।

Speaker

 


कमेंट करें