अभी-अभी

योगी जी इतना बड़ा झटका न दो! यूपी में 350 फीसदी तक महंगी होगी बिजली

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
344
| अगस्त 9 , 2017 , 17:07 IST | लखनऊ

उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार सूबे के लोगों को जबरदस्त झटका देने जा रही है। यूपी के लोगों को अक्टूबर महीने से बिजली का झटका लगने वाला है क्योंकि आपको अब ज्यादा बिल चुकाना पड़ेगा। महंगी बिजली की सबसे ज्यादा मार ग्रामीण अनमीटर्ड उपभोक्ताओं पर पड़ेगी।

पावर कॉरपोरेशन की तरफ से बिजली दरों में बढ़ोतरी का जो प्रस्ताव भेजा गया है, उसमें ग्रामीण विद्युत उपभोक्ताओं की दरों में 260 से 350 प्रतिशत तक की बढ़ोतरी की गई है। वहीं ग्रामीण अनमीटर्ड किसानों की बिजली दरों में 60 प्रतिशत और शहरी घरेलू बिजली उपभोक्ताओं की दरों में 12 प्रतिशत बढ़ोतरी का प्रस्ताव पावर कॉरपोरेशन ने दिया है। प्रस्ताव में कॉरपोरेशन की तरफ से औसतन 22.66 प्रतिशत की बढ़ोतरी की सिफारिश की गई है।

Yogi_Adityanath_news18india_10031711

कहां कितनी बढ़ोतरी:

सबसे ज्यादा बढ़ोतरी का प्रस्ताव ग्रामीण अनमीटर्ड बिजली उपभोक्ताओं की दरों में की गई है। ग्रामीण अनमीटर्ड विद्युत उपभोक्ताओं की दरों को 650 रुपये प्रति किलोवाट हर महीने करने का प्रस्ताव दिया गया है। मौजूदा समय में यह दर 180 रुपये प्रति किलोवाट महीना है। वहीं 2 किलोवाट के ऊपर मौजूदा 200 रुपये प्रति किलोवाट प्रति माह को 800 रुपये प्रति किलोवाट हर महीने करने का प्रस्ताव दिया गया है।

Substations-electricity-wednesday-transformer-hindustan-damaged-affected_da2c5df4-389e-11e7-9993-2f2d999294f7

मीटर्ड उपभोक्ता जो अभी 50 रुपये प्रति किलोवाट प्रति माह और 2.20 रुपये प्रति यूनिट देते हैं, उन्हें 85 रुपये प्रति किलोवाट प्रति माह और 150 यूनिट तक 4.40 रुपये प्रति यूनिट की दर से बिजली बिल चुकाना पड़ सकता है। वहीं 151 से 300 यूनिट तक बिजली का उपभोग करने वाले ग्रामीण मीटर्ड उपभोक्ताओं को 4.95 रुपये प्रति यूनिट और 500 यूनिट के ऊपर उपभोग करने वाले उपभोक्ताओं को 6.20 रुपये प्रति यूनिट तक का बिजली बिल देना पड़ सकता है। ग्रामीण अनमीटर्ड किसान जो अब तक 100 रुपये प्रति बीएचपी प्रति माह देते थे, अब उनकी बिजली 160 रुपये प्रति बीएचपी प्रति माह प्रस्तावित की गई है।

शहरों में ये दर होगी:

शहरी उपभोक्ताओं की बिजली दरों में फिक्स चार्ज 100 रुपये प्रति यूनिट करने का प्रस्ताव दिया गया है। अभी 90 रुपये प्रति किलोवाट प्रति माह की दर से फिक्स चार्ज वसूला जाता है। वहीं 150 यूनिट तक 4.40 रुपये प्रति यूनिट वसूला जाता था। उसे 4.90 रुपये प्रति यूनिट करने और 151 से 300 यूनिट के बीच 5.40 रुपये प्रति यूनिट और 301 से 500 यूनिट तक बिजली के इस्तेमाल पर 6.20 रुपये प्रति यूनिट की दर से वसूली की जाएगी। वहीं 500 यूनिट से ज्यादा बिजली का उपभोग करने वाले उपभोक्ताओं को 6.70 रुपये प्रति यूनिट की दर से भुगतान करना पड़ सकता है। लाइफलाइन विद्युत उपभोक्ताओं की दरें वही रखी गई हैं लेकिन उनकी 150 यूनिट को घटाकर 100 यूनिट पर सीमित कर दिया गया है।

_00de7830-1471-11e7-a5d6-c47fceabb9c0

राज्य विद्युत उपभोक्ता परिषद ने बिजली दरों में बढ़ोतरी का विरोध किया है। परिषद का कहना है कि बिजली दर में इतनी बढ़ोतरी से गरीब उपभोक्ता बिजली नहीं ले पाएगा। परिषद ने कहा कि बिजली दर बढ़ोतरी के प्रस्ताव के विरोध में जल्द ही आंदोलन शुरू होगा।

जुर्माना भी राहत भी

6 महीने के बाद बिजली बिल जमा करने वालों को करना पड़ सकता है अधिक भुगतान। शेड्यूल से ज्यादा बिजली सप्लाई पाने वाले इलाकों को चुकानी पड़ सकती है ज्यादा बिजली दर। इन लॉस कम करने के लिए बिजली कंपनियों पर हो सकती है सख्ती। वहीं नलकूपों की बिजली दरों में बढ़ोतरी की संभावना कम है। बीपीएल उपभोक्ताओं को 200 यूनिट तक मिल सकती है सस्ती बिजली । समय पर बिजली बिल जमा करने वालों को मिल सकती है ज्यादा रियायत। डेबिट, क्रेडिट और मोबाइल वॉलिट से बिल जमा करने वालों को मिल सकती है छूट।


कमेंट करें