इंटरनेशनल

रूक सकती है PAK को 25 करोड़ डॉलर की आर्थिक मदद, अमेरिका आतंकवाद पर नाखुश

सतीश वर्मा, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
329
| दिसंबर 30 , 2017 , 15:52 IST

अमेरिका अब पाकिस्तान को आतंकवाद से लड़ने के लिए दी जाने वाली 25.5 करोड़ डॉलर (1628 करोड़ रुपए) की मदद पर रोक लगाने के बारे में गंभीरता से विचार कर रहा है। ट्रम्प एडमिनिस्ट्रेशन ने शुक्रवार को इसका एलान किया। उसका मानना है कि पाकिस्तान उसकी जमीन पर पल रहे आतंकवाद के खात्मे में मदद को लेकर संजीदगी नहीं दिखा रहा है।

ट्रम्प ने कहा था- आतंकवाद को पनाह देता है PAK

न्यूज एजेंसी ने न्यूयॉर्क टाइम्स की रिपोर्ट के हवाले से यह जानकारी दी है। रिपोर्ट में कहा गया है, ट्रम्प ने जब से यह कहा कि पाकिस्तान "अराजकता, हिंसा और आतंकवाद फैलाने वालों को सुरक्षित पनाह देता है।" तब से दोनों देशों के रिश्तों में गर्माहट खत्म हो गई है। रिपोर्ट के मुताबिक, ट्रम्प एडमिनिस्ट्रेशन में यह बहस चल रही है कि पाकिस्तान को आतंकवाद के खात्मे के नाम पर आर्थिक मदद दी जानी चाहिए या नहीं।

PAK को 5 साल में 33 अरब डॉलर दे चुका US

बता दें कि अमेरिका 2002 से अब तक पाकिस्तान को आतंकवाद से लड़ने के लिए 33 अरब डॉलर (करीब 2 लाख 11 हजार करोड़ रुपए) की आर्थिक मदद दे चुका है। अमेरिका ने अगस्त में कहा था कि जब तक पाकिस्तान आतंकी गुटों पर कार्रवाई तेज नहीं करता, वह उसे दी जाने वाली 25.5 करोड़ डॉलर की आर्थिक मदद रोक कर रखेगा।

जल्द हो सकता है फैसला

अमेरिकी अखबार की रिपोर्ट में कहा गया है, "ट्रम्प एडमिनिस्ट्रेशन के सीनियर ऑफिशियल्स ने इस महीने मीटिंग की थी कि (पाक को दिए जाने वाले) पैसे का क्या किया जाए। इस पर अमेरिकी अफसरों ने कहा कि अाखिरी फैसला आने वाले हफ्तों में किया जा सकता है। न्यूयॉर्क टाइम्स की यह रिपोर्ट अमेरिकी वाइस प्रेसिडेंट माइक पेन्स के काबुल में दिए उस बयान के कुछ दिन बाद आई है, जिसमें कहा गया था कि ट्रम्प एडमिनिस्ट्रेशन ने पाकिस्तान को नोटिस पर रखा है। रिपोर्ट के मुताबिक, पाकिस्तान ने इस साल की शुरुआत में छोड़े गए कैनेडियन-अमेरिकन परिवार के अपहर्ताओं में से एक को अमेरिका के सामने पेश करने से इनकार कर दिया था। इसके बाद से दोनों देशों के बीच खाई और बढ़ी है।

PAK आर्मी की US को वॉर्निंग

पाकिस्तान की मिलिट्री ने उसकी जमीन से आतंकवाद के खिलाफ एकतरफा कार्रवाई की संभावनाओं के देखते हुए गुरुवार को अमेरिका को वॉर्निंग दी थी। पाकिस्तान मिलिट्री के स्पोक्समैन मेजर-जनरल आसिफ गफूर ने इस बात से इनकार किया है कि पाकिस्तान आतंकियों के खिलाफ माकूल कार्रवाई नहीं कर रहा है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान दूसरे किसी देश के कहे बगैर भी इलाके में मौजूद आतंकी गुटों के खिलाफ कार्रवाई जारी रखेगा। बता दें कि इस महीने की शुरुआत में अमेरिकी जांच एजेंसी सीआईए के डायरेक्टर माइक पोम्पिओ ने वॉर्निंग दी थी। उन्होंने कहा था कि अमेरिका पाकिस्तान में "आतंकवादियों के सुरक्षित पनाहगाहों" को खत्म करने के लिए कुछ भी कर सकता है।


कमेंट करें