नेशनल

देश में सबसे ज्यादा ऑनर किलिंग उत्तर प्रदेश में, शिवराज का सूबा भी पीछे नहीं!

मनीष शुक्ला, संवाददाता, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
134
| अगस्त 1 , 2017 , 15:46 IST | नयी दिल्ली

ऑनर किलिंग पर गृह मंत्रालय ने मंगलवार को संसद में एक रिपोर्ट पेश की। गृह मंत्रालय ने जो आंकड़े पेश किये हैं वह यह दर्शाते हैं कि वर्ष 2015 में उत्तर प्रदेश में ऑनर किलिंग के सबसे ज्यादा मामले सामने आये हैं। यह रिपोर्ट इसलिए भी महत्वपूर्ण है क्योंकि इसी दौरान तत्कालीन सरकार के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव उत्तर प्रदेश को लगातार उत्तम प्रदेश होने का दावा कर रहे थे।

संसद में गृह मंत्रालय की तरफ से पेश की गयी रिपोर्ट मध्य प्रदेश के हिसाब से भी बेहतर नहीं है। ऑनर किलिंग के मामले में गृह मंत्रालय ने अपनी जो राज्यवार रिपोर्ट संसद के भीतर दी है उसमें मध्य प्रदेश के आंकड़े भी कुछ बेहतर नहीं हैं। 

1263506-honorkeeling-1481742463

दरअसल मंगलवार को संसद सत्र के दौरान सांसद डॉक्टर मनोज राजोरिया ने गृह मंत्रालय से एक लिखित जवाब में यह पूछा कि पिछले तीन वर्षों के दौरान देश में ऑनर किलिंग के मामलों की राज्यवार संख्या क्या है और सरकार ने इस देश में ऐसे मामलों को रोकने के लिए क्या कदम उठाए हैं?

इसके जवाब में केंद्रीय गृह राज्य मंत्री हंसराज अहीर ने अपने लिखित जवाब में कहा कि भारत के संविधान की सातवीं अनुसूची के अंतर्गत पुलिस और लोक व्यवस्था राज्य के विषय हैं। कानून एवं व्यवस्था बनाए रखने और नागरिकों के जान और माल की सुरक्षा की प्राथमिक जिम्मेदारी संबंधित राज्य सरकारों की होती है। गृह मंत्रालय ने महिलाओं के प्रति अपराधों के संबंध में 4 सितंबर 2009 को परामर्शी पत्र जारी किया था जिसमें राज्य और संघ राज्य क्षेत्रों को महिलाओं के प्रति हिंसा की समस्या से निपटने में उनके कानून एवं व्यवस्था संबंधी तंत्र की व्यापक समीक्षा करने तथा ऐसी हिंसा में बेहतर कार्रवाई करने के लक्ष्य के साथ समुचित उपाय करने के निर्देश दिए गए थे। 

Honor-killing1

गृह मंत्रालय की तरफ से सदन में दिए गए आंकड़े यह दर्शाते हैं कि वर्ष 2015 में उत्तर प्रदेश ऑनर किलिंग के मामले में टॉप पर रहा। वर्ष 2015 में उत्तर प्रदेश में ऑनर किलिंग के 131 मामले दर्ज किए गए जबकि वर्ष 2014 में ऑनर किलिंग का एक मामला दर्ज किया गया था और वर्ष 2016 में ऑनर किलिंग के 16 मामले दर्ज किए गए । हालांकि वर्ष 2016 के यह आंकड़े अंतिम आकड़े नहीं हैं।

Honor-killing

वहीं गुजरात के मामले में वर्ष 2014 में ऑनर किलिंग के 2 मामले दर्ज किए गए जबकि वर्ष 2015 में यह आंकड़ा 21 मामलों तक पहुंच गया हालांकि वर्ष 2016 में यह संख्या 7 की रही। ऑनर कीलिंग के मामले में गृह मंत्रालय की तरफ से सदन के भीतर पेश किए गए आंकड़े मध्यप्रदेश के लिहाज से भी चौंकाने वाले हैं। गृह मंत्रालय के अनुसार मध्य प्रदेश में वर्ष 2014 में 7 ऑनर किलिंग के मामले दर्ज किए गए जबकि वर्ष 2015 में मध्य प्रदेश में 14 ऑनर किलिंग के मामले दर्ज हुए और वर्ष 2016 में यह आंकड़ा 18 तक पहुंच गया इस लिहाज से मध्य प्रदेश में पिछले 3 वर्षों में ऑनर किलिंग के मामले लगातार बढ़ रहे हैं।


कमेंट करें