राजनीति

वरुण गांधी ने उठाए अहम सवाल, कहा- सांसदों को ना हो खुद की सैलरी बढ़ाने का हक

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
146
| अगस्त 1 , 2017 , 21:33 IST | नई दिल्ली

बीजेपी सांसद वरुण गांधी ने मंगलवार को कहा कि सांसदों को खुद अपनी सैलरी बढ़ाने की मांग नहीं करनी चाहिए। लोकसभा में भाषण के दौरान वरुण ने कहा कि बीते 10 साल में सांसदों की सैलरी 400 गुना बढ़ गई, जबकि इसी दौरान ब्रिटिश सांसदों की सैलरी महज 13 फीसदी बढ़ी। बीजेपी सांसद ने ये भी कहा कि आधार जैसे अहम कानूनों वाले बिल बिना ज्यादा डिबेट के पास कराए जाने चाहिए। बता दें कि पिछले दिनों कुछ सांसदों ने अपनी सैलरी बढ़ाए जाने की मांग की थी।

और क्या कहा वरुण गांधी ने

जीरो ऑवर (शून्यकाल) में वरुण ने कहा- 1952 में लोकसभा की 123 दिन बैठकें हुईं और 2016 में महज 75 दिन। ये हमारे लिए शर्मनाक है। 2016 के शीतकालीन सत्र में सिर्फ 16 फीसदी काम हुआ। टैक्सेशन और आधार जैसे बिल दो हफ्ते में पास हुए। इन्हें किसी कमेटी के पास नहीं भेजा गया।

Varun

वरुण ने आगे कहा कि सांसद अकसर अपनी सैलरी बढ़ाने की मांग करते हैं। नेहरू कैबिनेट ने अपनी पहली मीटिंग में फैसला लिया था कि जनता परेशान है लिहाजा छह महीने तक कोई सांसद सैलरी नहीं लेगा। नैतिकता के आधार पर मुझे सैलरी बढ़ाने की मांग सही नहीं लगती।

किसानों की दिक्कतें सबसे ज्यादा

वरुण ने पूछा कि पिछले एक साल में 18 हजार किसानों ने खुदकुशी की। लेकिन हमारा फोकस कहा है? डेमोक्रेसी में खुद की सैलरी बढ़वा लेना नैतिकता नहीं कही जा सकती। बीजेपी सांसद ने तमिलनाडु के किसानों का जिक्र भी किया। कहा- वो लोग विरोध के तौर पर खुद का यूरिन पी रहे हैं और अपने मारे गए साथियों की खोपड़ी गले में लटका कर घूम रहे हैं। लेकिन 19 जुलाई को तमिलनाडु के विधायकों की सैलरी दोगुनी कर दी गई। इससे गलत मैसेज गया।

ब्रिटेन में 13 फीसदी तो हमारे यहां 400 फीसदी सैलरी क्यों बढ़ी

वरुण ने कहा कि बीते 10 साल में ब्रिटिश सांसदों की सैलरी तो महज 13 फीसदी बढ़ी लेकिन हमारे यहां ये 400 फीसदी बढ़ गई। सांसदों के परफॉर्मेंस पर सवाल उठाते हुए उन्होंने कहा कि बीते 20 साल में करीब 50 फीसदी बिल ही पार्लियामेंट कमेटियों की जांच के बाद पास किए गए। गांधी ने कहा कि जब बिल बिना गंभीर विचार विमर्श के पारित किए जाते हैं तो इससे संसद का मकसद पूरा नहीं होता। 41 फीसदी बिलों पर तो सदन में चर्चा तक नहीं हुई और इन्हें ऐसे ही पास कर दिया गया।

 


कमेंट करें