नेशनल

जाटों ने वापस लिया आंदोलन, वंसुधरा सरकार के साथ सफल रही बातचीत

icon अमितेष युवराज सिंह | 0
123
| जनवरी 1 , 1970 , 05:30 IST | नई दिल्ली

भरतपुर-धौलपुर में ओबीसी आयोग की रिपोर्ट कैबिनेट में रखे जाने की मांग को लेकर जाटों ने अपना गुस्सा सड़क और रेलवे पर उतारते हुए ट्रैकों को जाम किया। बता दें कि शनिवार को विधायक विश्वेंद्र सिंह के मुताबिक सरकार के साथ वार्ता सफल हो गई है। जिसके बाद जाट आरक्षण संघर्ष समिति का आंदोलन स्थगित हो गया है। 

इस वार्ता के बाद विधायक विश्वेंद्र सिंह ने पत्रकारों के साथ बातचीत करते हुए कहा कि सरकार ने आश्वासन दे दिया है कि वह ओबीसी कमीशन की गुरूवार को पेश की गई रिपोर्ट का अध्ययन जल्द से जल्द करेगी और जाट आरक्षण को लेकर सकारात्मक रुख रखा जाएगा।

उन्होंने बताया कि सरकार के प्रतिनिधियों ने उन्हें आश्वासन दिया है कि प्रदेश सरकार की अगली कैबिनेट बैठक में ओबीसी आयोग की रिपोर्ट पर कोई ठोस निर्णय लिया जाएगा। शुक्रवार को जाट अपनी चरम सीमा पर पहुंच रहा था। प्रदर्शनकारी सड़क और रेल मार्ग पर उतर आए। दिल्ली, मथुरा, अलवर, आगरा और जयपुर के लिए बस सर्विस ठप हो गई।

प्रदर्शनकारी ने रेलवे ट्रैक जाम कर दिए। जिसकी वजह से दिल्ली-मुंबई, अलवर-मथुरा और आगरा-जयपुर रेल रूट बाधित हो गए। इससे 9 ट्रेनें पूरी तरह से और 3 ट्रेन आंशिक रूप से रद्द कर दी गईं। जिसकी वजह से यात्रियों को अपनी यात्रा रद्द करनी पड़ी।


author
अमितेष युवराज सिंह

लेखक न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया में असिस्टेंट एग्जीक्यूटिव प्रोड्यूसर हैं

कमेंट करें